चाहिए मुझे सच कहूँ

0
Sachkahoon
Sachkahoon

चाहिए मुझे सच कहूँ  | Sachkahoon

देश हो या विदेश,
चाहे मैं कहीं भी रहूँ,
सुबह आँख खुलते ही,
चाहिए मुझे सच कहूँ।

जिसमें है देश-विदेश,
राजनीतिक, धार्मिक, समाजिक सरोकार,
मानव से मानव को मिलाने,
वाला है ये अखबार। सच कहूँ …

दुनिया को यह मानवता,
भलाई के कार्य सिखाता है,
हर रोज अलग-अलग,
फीचर पेज ये सामने लाता है।  सच कहूँ …

जिसमें बच्चों को आगे,
कैरियर की बात बताई जाती है,
नन्हें सम्राटों की बातों से,
फुलवारी सजाई जाती है।  सच कहूँ …

गुरमुख से निकला,
इसका प्यारा नाम है,
गुर के वचनों को लोगों तक,
पहुंचाना इसका काम है ।  सच कहूँ …

गर सच्चे प्रेमी हो तो,
सच पर तुम अडिग रहो,
दूसरे अखबारों को छोड़,
सिर्फ सच कहूँ को ‘हाँ’ कहो।

उर्मिल शर्मा (प्राध्यापिका)
शाह सतनाम जी गर्ल्ज स्कूल सिरसा

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।