मैं किसी से नहीं डरता

0
Children Story
राम और अमर बचपन के बहुत अच्छे मित्र हैं। दोनों इस वक्त दसवीं कक्षा के विद्यार्थी है। एक दूसरे से हर बात शेयर करते हैं। कोरोनावायरस संकट के समय जहां हर आदमी अपने-अपने घरों में रुका हुआ है और सिर्फ जरूरत के कामों से ही घर से बाहर जा रहा है। ऐसे दौर में भी अक्सर राम ने देखा कि अमर बिना मास्क लगाए घर से बाहर घूमता रहता है।सब पाबंदियों को नकारता हुआ वह अक्सर पार्क में सुबह और शाम घूमता नजर आता है। यहां तक कि अपनी रोज सुबह रनिंग करने की आदत के कारण पार्क में रोज रनिंग करने और योगा करने से भी बाज नही आ रहा है।
राम ने उसे बातों ही बातों में कई बार समझाया यार रनिंग और योगा का टाइम तो आगे बहुत मिलेगा। लेकिन इस समय थोड़ी सावधानी रखनी चाहिए और अपने घर में ही रहने की कोशिश करनी चाहिए और हो सके तो घर मे रहकर ही योगा करो। राम ने उसे समझाया कि केवल जरूरी काम से ही बाहर निकलो। अमर बचपन से बड़बोला किस्म का लड़का है। उसने बड़े ही लापरवाही से राम को जवाब दिया और कहां “अरे यार कुछ नहीं होता मैं किसी से नहीं डरता। कोरोनावायरस मेरा कुछ नहीं बिगड़ने वाला,तुम बहुत ज्यादा डरते हो।
धीरे-धीरे जब लॉकडाउन का समय समाप्त होने का समय आया तो अचानक शहर के कुछ हॉट स्पॉट जगह को सील करने की खबर आई।राम ने अब भी अमर को समझाया, यार अब तो बहुत ही सावधानी रखने की जरूरत है। माना कि हमारा एरिया सील नहीं हो रहा, लेकिन हमारी कोशिश ऐसी होनी चाहिए कि उसको सील करने की नौबत ही ना आए।
फिर भी अमर ने राम की बात नहीं मानी उसका जवाब फिर वही था।अरे यार कुछ नहीं होता तू डरता बहुत है, जो होगा देखा जाएगा। अमर की लगातार इस तरीके की बातों से राम का भी मन को भटकने लगा। वह काफी समय से घर में पड़े-पड़े बहुत परेशान हो गया था।
उसने विचार बनाया कि वह भी अमर की तरह सुबह-सुबह घूमने जाएगा और कुछ रनिंग करने की भी कोशिश करेगा। अमर भी राम की इस बात से बहुत खुश था और शाम को दोनों ने पार्क में घूमने का विचार बनाया। सब लोग अंदर थे, लेकिन दोनों पार्क में घूमने लगे। आमतौर पर राम को घूमने फिरने और रनिंग की आदत नहीं थी। वह अपने शरीर पर ज्यादा ध्यान नहीं देता था। उसे लगा इस लॉक डाउन के समय मे वह भी अपने शरीर को काफी हद तक घूमने का आदि बना लेगा। खैर अमर पार्क में रनिंग करने लगा, लेकिन क्योंकि राम को रनिंग करने की आदत नहीं थी तो उसने पार्क में धीरे धीरे चलना शुरू कर दिया। कुछ देर बाद राम को पुलिस के गाड़ी की हॉर्न की आवाज जोर-जोर से सुनाई पड़ने लगी। राम बिना अमर की तरफ ध्यान दिए अपना धीरे-धीरे पार्क में घूम रहा था। अचानक पार्क के अंदर पुलिस वाले आ गए और ठीक राम के सामने खड़े हो गए।
राम ने चारों तरफ अमर को देखा तो उसकी सिट्टी-पिट्टी गुम हो गई। उसने देखा कि अमर बहुत तेजी से भागता हुआ पार्क के बाहर निकल गया और अपने घर की तरफ भाग गया । वह अब समझ गया कि एक शेखचिल्ली की बातों में आकर आज वह फंस गया है। राम खुले पार्क में पुलिस वालों के हाथों दंड स्वरूप अपनी गलती पर उठक-बैठक लगा रहा था। उसने अपने कान पकड़े और पुलिस वालों से माफी मांगकर अपने घर की तरफ चल पड़ा।

कहानी का सार सिर्फ इतना है कि हर समय लोगों की बातों पर ध्यान नहीं देना चाहिए और अपना दिमाग भी लगाना चाहिए। क्योंकि कुछ लोग अगर बातों को गलत तरीके से बता रहे हैं तो जरूरी नहीं है संकट पड़ने पर वह आपका साथ देंगे। ऐसे मित्रों से कान पकड़िए और इनकी बातों में ना आने का प्रयास करें। अक्सर ऐसे शेखचिल्ली आपको अपने इर्द गिर्द काफी दिखाई देते हैं।इनसे बचने का प्रयास करें।
नीरज त्यागी, गाजियाबाद

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।