देर रात हुई उच्च स्तरीय बैठक, किसानों का आंदोलन जारी

0
10
Haryana Police failed every handcuff on Shambhu border, farmers traveled towards Delhi - Sach Kahoon News

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी में जारी किसान आंदोलन से चिंतित भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) अध्यक्ष जे पी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह और कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की देर रात बैठक हुई जबकि किसान संगठनों ने बातचीत के लिए सरकार की किसी भी शर्त को मानने से मना कर दिया है। नड्डा , शाह और तोमर ने किसानों की रणनीति को लेकर देर रात बातचीत की लेकिन उसकी कोई आधिकारिक जानकारी नहीं मिल सकी है । शाह ने किसान नेताओं को सड़क जाम समाप्त कर बुराड़ी मैदान में आकर लोकतांत्रिक तरीके से आंदोलन करने का प्रस्ताव दिया था और कहा था कि इस व्यवस्था के लागू होने पर अगले ही दिन किसानों के साथ बातचीत की जाएगी ।

किसान नेता योगेंद्र यादव ने कहा है कि किसान संगठन बातचीत के लिए सरकार की किसी भी शर्त को मानने के लिए तैयार नहीं हैं।कल किसान संगठनों की बैठक हुई जिसमें पंजाब के 20 से अधिक किसान संगठनों ने आंदोलन स्थल पर ही बातचीत करने पर जोर दिया । तोमर ने कहा है कि सरकार किसानों के साथ खुले मन से बातचीत करना चाहती हैं और कृषि सुधार कानूनों का कृषि उत्पादों के न्यूनतम समर्थन मूल्य ( एमएस पी) से कोई लेना देना नहीं है। सरकार ने पहले ही किसान संगठनों को तीन दिसंबर को बातचीत का आमंत्रण दिया है ।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में कहा था कि कृषि सुधार कानूनों से किसानों को नए अधिकार और अवसर मिले हैं । संसद ने काफी बिचर विमर्श के बाद कृषि सुधार कानूनों को पारित किया है । इन सुधारों से किसानों के अनेक बंधन समाप्त हुए हैं। किसान संगठनों के साथ सरकार की पहले भी दो दौर की बातचीत हुई है लेकिन उसका कोई नतीजा नहीं निकल सका था।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।