हर्षवर्धन ने देश की पहली मोबाइल आई लैब लाँच की

0
Harshvardhan launches countrys first mobile eye lab
नई दिल्ली। केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने आज देश की पहली मोबाइल आई लैब (संक्रामक रोग नैदानिक लैब) लाँच की जो कोरोना वायरस ‘कोविड-19’ के परीक्षण में मील का पत्थर साबित होगी। इस मशीन को देश के दुर्गम, भीतरी और दूरस्थ क्षेत्रों में तैनात किया जाएगा और इसकी क्षमता 25 आरटीपीसीआर टेस्ट और 300 एलिसा टेस्ट प्रतिदिन की है। इसके अलावा यह टीबी और एचआईवी परीक्षण करने में भी सक्षम है और ये परीक्षण सीजीएचएस की दरों पर किए जाएंगे।
इस मशीन को कोविड-19 कमान रणनीति के तहत विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय तथा जैव तकनीकी विभाग का समर्थन है। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में गुरुवार को बताया गया कि पिछले 24 घंटों में 7390 मरीज स्वस्थ हो गये हैं और अभी तक देश में कुल 1,94,324 मरीज ठीक हो गये हैं। देश में कोरोना के मरीजों के ठीक होने की दर 52.96 प्रतिशत हो गई है और 1,60,384 सक्रिय मरीज चिकित्सकीय निगरानी में हैं।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।