बेटी पर गर्व : इंडिया बुक आफ रिकॉर्ड में दर्ज हरप्रीत कौर इन्सां का नाम

0
Harpreet Kaur Insan

डेरा सच्चा सौदा के पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां को दिया उपलब्धि का श्रेय | Harpreet Kaur insan

  • पैंसिल पर ‘ए से जेड’ तक 26 अक्षरों का कारव आर्ट करने का रिकॉर्ड करवाया दर्ज

मलोट (सच कहूँ/मनोज)। अब बेटियां भी हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही है और अव्वल शिक्षा प्राप्त कर बड़े पदों पर तैनात होकर अपनी बेहतर कार्यशैली के कारण माता-पिता, समाज व देश का नाम रौशन कर रही हैं। इसी कड़ी के तहत श्री मुक्तसर साहिब की मंडी लक्खोवाली की एक बेटी ने अपने हुनर का जलवा दिखाया है। जानकारी के अनुसार हरप्रीत कौर इन्सां (Harpreet Kaur insan) पुत्री गुरमीत कौर इन्सां व अवतार सिंह इन्सां निवासी गांव लक्खेवाली ने नवंबर 2019 में पैंसिल लीड कार्विंग आर्ट करना शुरू किया और डेरा सच्चा सौदा के पूज्य गुरू जी के आर्शीवाद से पैंसिल पर ‘ऐ से जैड’ तक इंग्लिश के 26 अक्षरों का कारव आर्ट किया। 20 नवंबर को इंग्लिश के अक्षरों का कराव करने का रिकार्ड कायम कर इंडिया बुक आफ रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज करवाया और उसे मैडल व सम्मान पत्र भी सौंपा गया है।

उसने इस उपलब्धि का श्रेय डेरा सच्चा सौदा के पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां जी को दिया क्योंकि उसने सबसे पहले डेरा सच्चा सौदा के पूज्य गुरू जी के पोरटरेट बनाने शुरू किए थे ओर उनकी वजह से वो आज इस मुकाम पर पहुंच पाई है। उसने बताया कि उसने इंग्लिश के अक्षरों के अलावा पंजाबी के 35 अक्षर भी पैन्सिल लीड पर कारव किए और इसका भी इंडिया बुक आफ रिकॉर्ड में मंजूर किया गया, जिसका सर्टीफिकेट का भी उन्हें इंतजार है।

ड्राइंग प्रतियोगिताओं व साइंस मेलों में भी बढ़-चढ़कर भाग ले रही हरप्रीत कौर इन्सां

  • हरप्रीत इन्सां को ड्राइंग करने का शौंक है।
  • वे स्कूल स्तर पर ड्राइंग प्रतियोगिताओं व साइंस मेलों में भी बढ़-चढ़कर भाग लेती हैं।
  • इसके बाद कॉलेज स्तर पर भी यूथ फेस्टीवल प्रतियोगिताओं में भाग लिया।
  • उसने कोई पेंटिंग का कोर्स नहीं किया ।
  • यह सब पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां जी की रहमत से ही संभव हुआ है।

माता पिता व सहेली पूजा ने किया सहयोग : हरप्रीत

  • हरप्रीत इन्सां ने बताया कि इस मुकाम पर पहुंचने पर उसके माता-पिता व पूरे परिवार का भी सहयोग मिला
  • और उनकी सहेली पूजा सेतीया ने भी पूरा साथ दिया।
  • हरप्रीत इन्सां के माता गुरमीत कौर इन्सां व पिता अवतार सिंह इन्सां ने बताया कि वे डेरा सच्चा सौदा के श्रद्धालु हैं
  • और पूज्य गुरू जी पर दृढ़ विश्वास रखते हैं
  • इसलिए उन्होंने पूज्य गुरू जी पावन शिक्षाओं पर अमल करते हुए अपनी बेटी को लक्खेवाली में
    स्कूली शिक्षा करवाने के बाद एमए पॉलीटिकल साइंस की शिक्षा करवाई।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।