आमजन को सस्ती दवाईयां, मास्क एवं सेनेटाइज़र मुहैया करवाएगी सरकार

0
Necessary Resources to Delhi

करोना वायरस : डरने-घबराने की जरूरत नहीं, सावधानी बरतने से बचाव संभव (Coronavirus In Haryana)

  •  ‘क्या करें व क्या न करें’ जागरुकता फैलाने वाले पोस्टर लगेंगे

चंडीगढ़ (अनिल कक्कड़/सच कहूँ)। कोरोना वायरस का प्रकोप पूरी दुनिया में फैल रहा है, ऐसे में मुनाफाखोरी की आदत पाले बहुत से लोग मॉस्क, सैनेटाइजर इत्यादि जैसी बेसिक चीजों के दाम बढ़ा-बढ़ा कर जनता को बेच रहे हैं। मुनाफाखोरी और कालाबाजारी के जाल को तोड़ने के लिए हरियाणा सरकार ने प्रदेश में आमजन को बाजार से उचित मूल्यों पर दवाईयां, मास्क तथा सेनेटाईजर उपलब्ध करवाने के निर्देश दिये हैं। प्रदेश में कोरोना वायरस के संदिग्धों की जानकारी के लिए दो हैल्पलाइन नंबर 8558893911 तथा 108 को चलाया जा रहा है। (Coronavirus In Haryana) कोरोना वायरस के संदिग्ध की मोबाइल ट्रेकिंग के माध्यम से उसकी गतिविधियों पर भी नजर रखी जायेगी। हरियाणा की मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा ने सोमवार को चंडीगढ़ से वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से राज्य के मंडलायुक्तों, उपायुक्तों मुख्य स्वास्थ्य अधिकारियों तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारियों को विशेष दिशा निर्देश दिये।

उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी, खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के साथ मिलकर सुनिश्चित करें कि आमजन को बाजार से दवाईयां, मास्क तथा सेनेटाईजर उचित मूल्यों पर उपलब्ध हों। उन्होंने कहा कि कार्यालयों में अधिकारियों एवं कर्मचारियों को भी कोरोना वायरस के संबंध में जानकारी दी जाये तथा सभी विभागों के कार्यालयों, लघु सचिवालयों व अन्य ज्यादा आवाजाही वाले स्थानों पर सेनेटाइजर उपलब्ध करवायें ताकि बीमारियों की संभावना से बचा जा सके। उन्होंने कहा कि कोरोना के संदिग्धों को निगरानी हेतु अलग रखने के लिए उचित स्थानों की पहचान की जाये, जहां उनके रहने, खाने, शौचालय एवं अन्य सभी आवश्यकताओं को पूरा किया जा सके।

पोस्टर्स से लोगों को जागरूक करेगी सरकार

उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे अपने-अपने जिलों में कोरोना की रोकथाम के लिए विभिन्न विभागों के साथ आपसी समन्वय स्थपित कर समुचित प्रबंध करें।  इसके अलावा विज्ञापन, टेलीविजन, रेडियो एसएमएस के माध्यम से भी जागरूकता अभियान चलाने, इस कार्य के लिए आपदा के समय कार्य करने वाले लोगों को भी इस कार्य में शामिल करने तथा आपातकालीन स्थिति को संभालने के लिए रिटायर्ड चिकित्सा अधिकारियों, पैरामैडिकल स्टाफ, रिटायर्ड आर्मी के अधिकारियों के साथ-साथ मेडिकल के विद्यार्थियों की भी सेवा ली जाये।

विदेशों से आने वाले प्रत्येक व्यक्ति की जानकारी सरकार तक पहुंचे

उन्होंने कहा कि वे अपने-अपने क्षेत्र की कम्पनियों को निर्देश दें कि उनकी कम्पनियों में विदेश से आने वाले प्रत्येक व्यक्ति की जानकारी सबसे पहले आॅनलाइन माध्यम से मुख्य चिकित्सा अधिकारी को दें, इसके अलावा यदि संभव हो सके तो कर्मचारियों को घर से कार्य करने की अनुमति प्रदान की जाये। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी सरकारी एवं निजी अस्पतालों को सैनेटाइज करवाये तथा सेनेटाइजर व मास्क का प्रयोग किया जाये, ताकि अन्य बीमारियों से ग्रस्त मरीजों, चिकित्सकों एवं पैरामेडिकल स्टाफ को इस से बचाया जा सके। उन्होंने कहा कि यह भी सुनिश्चित करें कि सभी जगह साफ-सफाई का पूरा ख्याल रखें। उन्होंने सभी जिलों में कम से कम 100 आइसोलेशन-बैड तथा नई दिल्ली के साथ लगते गुरूग्राम में 500 से अधिक आइसोलेशन-बैड तैयार करने के निर्देश दिए।

31 मार्च तक सभी सिनेमा हॉल, स्कूल, जिम, स्वीमिंग पूल इत्यादि बंद रखने के निर्णय का हो सख्ती से पालन

उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा आगामी 31 मार्च, 2020 तक सभी सिनेमा हॉल, स्कूल (परीक्षाओं को छोड़कर), जिम, स्वीमिंग पुल, नाईट क्लब बंद रखने के निर्णय को सख्ती के लागू किया जाये। इसके अलावा, राज्य में किसी सामाजिक, राजनैतिक, सांस्कृतिक, शैक्षणिक, खेल प्रतियोगिता व पारिवारिक कार्यक्रमों में 200 से अधिक संख्या में लोगों के एकत्रित होने पर प्रतिबंध पर ध्यान दिया जाये।

मुख्यमंत्री को टवीट् कर कोरोना संदिग्ध ने बताई अपनी व्यथा

कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीज ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को ट्वीट कर गुरुग्राम के अस्पताल की स्थिति से अवगत करवाया। गुरुग्राम का ये व्यक्ति एमएनसी में कार्यरत है। कंपनी के काम से वह व्यक्ति जर्मनी व लंदन की यात्रा पर गया था। उसके साथ दुबई का रहने वाले एक व्यक्ति भी था। वे दोनों जर्मनी से लौट आए। दुबई के रहने वाले व्यक्ति की जांच की गई तो वह कोरोना वायरस पॉजिटिव पाया गया।

  • इसके बाद गुरुग्राम के रहने वाले व्यक्ति को भी दुबई से मेल पर इस मामले की जानकारी दी गई।
  • गुरुग्राम के रहने वाले व्यक्ति को अपनी जांच कराने की सलाह दी गई।
  • वह व्यक्ति जांच के लिए अस्पताल पहुंचा तो उस व्यक्ति ने अस्पताल के गार्ड से लैब की जानकारी मांगी।
  • गार्ड ने उस व्यक्ति को लैब का पता बताने के बजाय घर जाकर आराम करने की सलाह दे डाली।
  • उस व्यक्ति ने सेक्टर 10 स्थित अस्पताल में एक अन्य व्यक्ति से भी लैब के बारे में जानकारी लेनी चाही।
  • उसने भी उसको सही से जानकारी नहीं दी।
  • इस बात से आहत उस व्यक्ति ने अपने साथ हुए इस व्यवहार के लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल को ट्वीट किया।
  • सेक्टर 10 स्थित नागरिक अस्पताल में जांच कराने गए व्यक्ति ने अपना दर्द ट्वीट कर मुख्यमंत्री के साथ साझा किया।

चंडीगढ़ में लोगों ने तीन-तीन महीने का राशन घर में जमा किया

कोरोना को लेकर चंडीगढ़ में भी तकरीबन सभी मॉल, सिनेमाघर, पब्लिक प्लेस बंद कर दिए गए हैं। हालात ये हैं कि बहुत से स्थानीय लोगों ने अपने-अपने घरों में अगले दो-तीन महीनों का राशन तक जमा कर लिया है। एक स्थानीय निवासी ने बताया कि जिस तरीके से कोरोना बीमारी का पता चला है, इससे लोगों में कहीं न कहीं डर है। वहीं लोग अपने घरों में ही रहना चाहते हैं, हालांकि ऐसा संभव नहीं है, लेकिन फिर भी एहतियातन बहुत से लोगों की तरह उन्होंने भी अपने घर में दो-तीन महीने का राशन जमा कर लिया है।

पैनिक होने वाली बात नहीं, बचाव जरूरी : प्रो. जगत राम, पीजीआई डायरैक्टर

पीजीआई चंडीगढ़ के डायरैक्टर प्रो. जगत राम ने बताया कि इस मामले में भयभीत होने वाली बात नहीं है, हाँ बचाव रखना जरूरी है। उन्होंने कहा कि जिस तरीके से हर तीसरा इंसान इस समय चंडीगढ़ में मॉस्क लगाकर घूम रहा है तो मॉस्क लगाने की जरूरत सिर्फ उसे ही है, जिसे सर्दी-जुखाम या खांसी है, जबकि स्वस्थ इंसान को मॉस्क की इतनी जरूरत नहीं है। वहीं उन्होंने कहा कि हाई रिस्क देशों से आ रहे लोगों को देश में कम से कम 14 दिनों के लिए क्वारनटीन होना जरूरी है, भाव उन्हें आइसोलेशन में रखा जाना जरूरी है। वहीं प्रो. जगतराम ने बताया कि फिलहाल पीजीआई में वायरलटीज़ टैस्ट जो कि पहले केवल पूणे में हो रहा था अब वह 55-56 सैंटरों पर हो रहा है जिसमें पीजीआई चंडीगढ़ भी शामिल है। तो अब कोरोना के कुछ टैस्ट पीजीआई में भी हो रहे हैं।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।