किसानों को समृद्ध बनाने के लिए सरकार ने चलाई नई योजनाएं

0
90
Farmers Schemes

धरतीपुत्रों को किया जाएगा सम्मानित, मिलेगा नकद पुरस्कार

कृषि कानून के विरोध में देश में चल रहे किसानों के आंदोलन के बीच हरियाणा सरकार किसानों के लाभार्थ कई योजनाएं शुरू करने जा रही है। इसके लिए हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार ने तैयारी शुरू कर दी है। सरकार का दावा है कि इसका मकसद नवीनतम कृषि पद्धतियों तथा बेहतर वित्तीय प्रबंधन से अपने कृषि उत्पादन बढ़ाने में अन्य किसानों की मदद करने के लिए प्रेरित करना है। सरकार की सभी योजनाओं की जानकारी के लिए आप अपने मोबाइल में ट्रैक्टर जंक्शन मोबाइल एप – http://bit.ly/TJN50K1 डाउनलोड करे।

हरियाणा के मुख्यमंत्री ने मीडिया को बताया कि कृषि क्षेत्र में कुछ अलग करने वाले प्रगतिशील किसानों को प्रोत्साहित करने के लिए ‘प्रगतिशील किसान सम्मान योजना’, ‘प्रगतिशील किसान ट्रेनर’ और ‘किसान मित्र योजना’ शुरू की जाएगी। इसमें पहला पुरस्कार 5 लाख रुपए, दूसरा और तीसरा पुरस्कार 3-3 लाख रुपए के प्रदान किए जाएंगे। बताया जा रहा है कि पुरस्कार योजना पर सालाना 70 से 75 लाख रुपये खर्च किए जाएंगे। इसका का मानना है इन योजनाओं से किसानों को बेहतर उत्पादन में मदद मिलेगी तथा नवीनतम तकनीक के प्रयोग से कृषि में सुधार होगा।

प्रगतिशील किसान सम्मान योजना

इस योजना के तहत, 10 प्रगतिशील किसानों को 10 एकड़ या 10 एकड़ से अधिक की कृषि योग्य भूमि की श्रेणी में पुरस्कृत किया जाएगा। इनमें से आठ प्रगतिशील किसानों को 16 लाख रुपए के पुरस्कार वितरित किए जाएंगे। चौथे, पांचवें, छठे, सातवें और आठवें पुरस्कार में एक-एक लाख रुपए प्रगतिशील किसानों को दिए जाएंगे। ऐसे ही, पांच से 10 एकड़ भूमि वाले प्रगतिशील किसानों के लिए, प्रत्येक को 50,000 रुपए के 100 पुरस्कार दिए जाएंगे। इसी तरह, 5 एकड़ से कम भूमि वाले किसानों के लिए, प्रति एकड़ 10,000 रुपए का पुरस्कार निर्धारित किया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पात्र किसानों को इस उद्देश्य के लिए गठित समिति के समक्ष पुरस्कार के लिए आवेदन करना होगा। प्रगतिशील किसानों को भी इस समिति में शामिल किया जाएगा।

प्रगतिशील किसान ट्रेनर योजना

इस योजना के तहत प्रगतिशील किसान कम से कम आसपास के 10 किसानों का एक समूह बनाएगा और उन्हें सर्वश्रेष्ठ कृषि प्रथाओं को अपनाने के लिए प्रेरित करके प्रगतिशील किसान के रूप में आगे बढ़ाएगा। इससे अन्य किसानों को भी नई तकनीक के बारे में जानकारी हो सकेगी जिससे बेहतर उत्पादन में मदद मिलेगी।

किसान मित्र योजना

इस योजना के तहत प्रगतिशील किसान किसान मित्र के रूप में काम करेंगे और एक किसान मित्र 100 किसानों का समूह बनाएगा। प्रगतिशील किसान वित्तीय प्रबंधन को बनाए रखने में भी किसानों की मदद करेंगे। सरकार की ओर से जल्द ही राज्य के प्रगतिशील किसानों की एक डायरेक्टरी प्रकाशित की जाएगी और किसानों की सहायता के तहत कृषि एवं किसान कल्याण विभाग द्वारा समय-समय पर जारी किए गए महत्वपूर्ण परिपत्र व पत्र भेजे जाएंगे।

इन योजनाओं का उद्देश्य किसानों की आय बढ़ाना

राज्य में भूमि की जोत लगातार कम हो रही है। ऐसे किसानों की सहायता के लिए योजनाएं तैयार की जा रही हैं जिनके पास छोटे-छोटे खेत हैं और वे पूरी तरह से कृषि पर निर्भर हैं। ऐसे किसानों को मधुमक्खी पालन व दुग्ध उत्पादन आदि के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा ताकि उनकी आय बढ़ सके। ऐसे किसानों को उनकी उपज की मार्केटिंग के लिए भी सहायता प्रदान की जाएगी। किसानों के लिए अनुबंधित खेती एक सुनिश्चित आय में सहयोग करेगी। इसके अलावा राज्य में वीटा बूथों की संख्या को भी 700 से बढ़ाकर 4,000 करने का फैसला लिया गया है। दूध के अलावा, ताजे फल और सब्जियां भी इन बूथों पर उपलब्ध कराई जाएंगी। हरियाणा एग्रो इंडस्ट्रीज कॉपोर्रेशन लिमिटेड की ओर से भी एग्री-प्रोडक्ट्स बेचने के लिए 2000 रिटेल आउटलेट्स खोले जाएंगे।

अब खेती संबंधी वस्तु बेचने के लिए करे ट्रैक्टर जंक्शन का इस्तेमाल

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास आॅफर का जमकर फायदा उठाएं।

प्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले प्रगतिशील किसान को 5 लाख रूपए का इनाम दिया जाएगा। इसी प्रकार द्वितीय स्थान हासिल करने वाले दो किसानों को तीन-तीन लाख रूपए तथा तृतीय स्थान के लिए 5 किसानों को एक-एक लाख रूपए का पुरस्कार देने का प्रावधान किया गया है। उन्होने बताया कि 100 किसानों को सांत्वना पुरस्कार के तहत 50-50 हजार रूपए का ईनाम देने की योजना है।
-प्रदेश के शिक्षा, वन एवं पर्यटन मंत्री चौधरी कंवरपाल

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।