गहलोत ने की कोरोना वायरस से बचाव की व्यवस्थाओं की समीक्षा

0
Ashok-Gehlot

विभाग पूरी मेडिकल सुविधाएं उपलब्ध कराए (Ashok Gehlot)

जयपुर (सच कहूँ न्यूज)। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश में कोरोना वायरस से निपटने के लिए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा बचाव एवं रोकथाम के लिए की जा रही व्यवस्थाओं की समीक्षा की हैं वहीं कोरोना वायरस के एक संदिग्ध रोगी को एसएमएस अस्पताल के आईसीयू मेंं रखा गया है।( Ashok Gehlot)  कोरोना वायरस के संदिग्ध रोगी एवं इटली के नागरिक के सवाई मानसिंह अस्पताल में भर्ती होने एवं यहां किए गए परीक्षण में उसकी जांच सकारात्मक पाए जाने के बाद आयोजित समीक्षा बैठक में श्री गहलोत ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि इस वायरस के संबंध में केन्द्र सरकार की गाइडलाइन की पूरी तरह पालना की जाए और किसी भी व्यक्ति में इस वायरस से संबंधित कोई लक्षण नजर आए तो उसकी पूरी जांच कराई जाए।

  • चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग यह सुनिश्चित करे कि कोरोना वायरस को लेकर जनता में किसी तरह का भय नहीं हो।
  • विभाग पूरी मेडिकल सुविधाएं उपलब्ध कराए ताकि जांच से लेकर इलाज में भी कोई कमी नहीं आए।

संदिग्ध रोगी गत 28 फरवरी को जयपुर पहुंचे

उन्होंने कहा कि इटली से आए इस संदिग्ध रोगी की ट्रेवल हिस्ट्री की जानकारी लेकर उन लोगों की जांच की जाए, जिनसे यह व्यक्ति प्रदेश में अपनी यात्रा के दौरान सम्पर्क में आया है। उन्होंने कहा कि इसी व्यवस्था की जाए कि जांच के दौरान अन्य किसी व्यक्ति में इस वायरस के लक्षण दिखाई दें तो उसे होम आईसोलेशन अथवा अस्पताल में आईसोलेशन वार्ड में रखा जाए।

  • गहलोत ने सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सुधीर भण्डारी एवं वरिष्ठ चिकित्सों को निर्देश दिए
  • जांच एवं संदिग्ध रोगियों को आईसोलेशन में रखने के पुख्ता बंदोबस्त किए जाएं।
  • संदिग्ध रोगी गत 28 फरवरी को जयपुर पहुंचे 20 लोगों के इटली के समूह में शामिल था
  • इसी दिन रात को उसे फोर्टिस अस्पताल ले जाया गया।

इसके बाद 29 फरवरी को उसे सवाई मानसिंह चिकित्सालय लाया गया। यहां उसकी स्वाइन फ्लू एवं कोरोना वायरस से संबंधित जाचें की गई जिनका परिणाम नकारात्मक आया था। संदिग्ध रोगी के सोमवार को फिर से की गई दूसरी बार जांच में परिणाम सकारात्मक आने के बाद उसे एसएमएस अस्पताल के आईसोलेशन वार्ड के आईसीयू में रखा गया है और सभी तरह की सावधानियां बरती जा रही हैं। उन्होंने बताया कि मरीज का सैम्पल नेशनल इंस्टीट्यूट आॅफ वायरोलॉजी, पुणे भेजा गया है। जिसकी रिपोर्ट अभी प्राप्त नहीं हुई है। संदिग्ध रोगी के बारे में इटली के दूतावास को जानकारी दे दी गई है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।