खतरे में गहलोत सरकार!

0
Gehlot government in danger!

सीएम गहलोत बोले- विधायकों की खरीद फरोख्त मामले में एसओजी के नोटिस को सामान्य बताया

जयपुर (सच कहूँ न्यूज)। मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार की तरह अब राजस्थान में सियासी घटनाक्रम तेजी से बदल रहा है। राजस्थान के मुख्यमंत्री गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच मतभेद गहरा रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष पद को लेकर दोनो वरिष्ठ नेता आमने-सामने आ गए हैं। बताया जा रहा है गहलोत से नाराजगी के बीच उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट समेत करीब 15 विधायक पार्टी आलाकमान से मिलने के लिए दिल्ली पहुंच गए हैं। पायलट खेमे के विधायकों की शिकायत है कि जानबूझ कर उन लोगों को निशाना बनाया जा रहा है इस लिए एसओजी की तरफ से नोटिस दिया गया है। इस सारे घटना क्रम को मध्यप्रदेश में ज्योतिराज सिंधिया के भाजपा में शामिल होने और कमल नाथ सरकार के गिरने से जोड़कर देखा जा रहा है। उधर गहलोत ने ट्वीट कर रविवार को कहा ” कांग्रेस विधायक दल ने एसओजी को बीजेपी नेताओं द्वारा खरीद-फरोख्त की जो शिकायत की थी उस संदर्भ में मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री, चीफ व्हिप एवम अन्य कुछ मंत्रियों और विधायकों को सामान्य बयान देने के लिए नोटिस आए हैं। कुछ मीडिया चैनलो द्वारा उसको अलग ढंग से प्रस्तुत करना उचित नहीं है।”

मुख्यमंत्री ने मोर्चा संभाला, विधायकों से बात कर रहे

अशोक गहलोत सुबह से अपने आवास पर कांग्रेस के विधायकों और मंत्रियों से मिल रहे हैं। सभी मंत्रियों और विधायकों को कहा गया है कि वह अपने क्षेत्र को छोड़कर जयपुर पहुंचे। राजस्थान के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास के मुताबिक, ‘कैबिनेट मीटिंग में मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि किसी विधायक या मंत्री का फोन बंद आए या फिर वह नहीं मिल रहा है तो घबराएं नहीं, उससे संपर्क करें। सरकार को बचाने की जिम्मेदारी सब पर है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।