Breaking News

खरल की गीता का कला संकाय में तीसरा स्थान

Geeta's third place in the Faculty of Arts

हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड भिवानी द्वारा घोषित किया गया बारहवीं कक्षा का परीक्षा परिणाम

नरवाना/उचाना (सच कहूँ न्यूज)। हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड भिवानी द्वारा बुधवार को घोषित किए गए बारहवीं कक्षा के परीक्षा परिणाम में कन्या गुरूकुल खरल की छात्रा गीता ने कला संकाय में 500 में से 491 अंक प्राप्त करके पूरे प्रांत में तीसरा स्थान प्राप्त किया। गीता की इस उपलब्धि से उसके परिवार व गांव में खुशी का माहौल बना हुआ है और गीता के घर बधाई देने वालों का तांता लग गया है।

गीता करसिंधू गांव के किसान कृष्ण की बेटी है। उनकी मां नीतू देवी घर का कामकाज ही संभालती हैं। गीता ने पहली कक्षा से ही अपनी पढ़ाई कन्या गुरूकुल खरल से की है और उसने खरल गांव में ही अपने नाना-नानी के पास रहकर अपने बारहवीं तक की पढ़ाई पूरी की। गीता शुरू से ही होनहार छात्रा है। उसने बताया कि उसके परिवार वालों व उसके नाना रिटायर्ड एएसआई धूप सिंह ने उसे हमेशा पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया और गुरूकुल की अध्यापिकाओं का भी उसे हमेशा सहयोग मिला जिसके बलबूते पर आज वह यह मुकाम हासिल कर पाई है।

किसान की बेटी गीता आईएएस बनकर करना चाहती है देश की सेवा

गीता ने दसवीं कक्षा में भी 485 अंक लेकर उपलब्धि हासिल की थी। गीता का कहना है कि पूरे प्रांत में तीसरा स्थान पाकर वह बेहद खुश है और आगे चलकर वह स्नातक की डिग्री हासिल करके सिविल सर्विसस में जाना चाहती है और आईएएस बन कर देश की सेवा करना चाहती है। गीता की मां नीतू देवी को जब अपनी बेटी की उपलब्धि का पता चला तो उनकी आंखों में खुशी के आंसू आ गए।

उन्होंने कहा कि उन्हें अपनी बेटी गीता पर बड़ा गर्व है। उनकी बेटी ने उनके परिवार का नाम रोशन कर दिया है। गीता के 2 छोटे भाई हैं जोकि एक भाई नौंवी कक्षा व एक भाई आठवीं कक्षा में करसिंधू गांव में ही पढ़ते हैं। कन्या गुरूकुल खरल की प्रिंसीपल दर्शना देवी ने छात्रा गीता को इस उपलब्धि पर बधाई देते हुए कहा कि यह बड़े गर्व की बात है कि गुरूकुल पद्धति में शिक्षा प्राप्त करते हुए छात्रा गीता ने पूरे हरियाणा प्रांत में तीसरा स्थान प्राप्त कर नरवाना क्षेत्र व कन्या गुरूकुल का नाम पूरे हरियाणा में रोशन किया है।

उन्होंने कहा कि गीता शुरू से ही होनहार छात्रा थी और हमेशा पढ़ाई में अव्वल रहती थी। उन्होंने इस उपलब्धि के लिए गुरूकुल के स्टाफ को भी बधाई दी। उन्होंने कहा कि स्टाफ व छात्रा की लग्नशीलता व मेहनत से यह मुकाम हासिल हुआ है। उन्होंने कहा कि अन्य छात्राओं को भी गीता से प्रेरणा लेनी चाहिए।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।


																														

लोकप्रिय न्यूज़

To Top

Lok Sabha Election 2019