पूर्व कौंसलर ने गले में बिजली मीटर व बिल लटकाकर किया अनोखा प्रदर्शन

0
Former counselor threw power meter and bill hanging out in the unique performance

बिजली दरों में बढ़ोत्तरी कर कैप्टन सरकार ने दिया आम आदमी को झटका

बठिंडा(अशोक वर्मा)। पंजाब की कैप्टन सरकार की ओर से हाल ही में बढ़ाई गई बिजली दरों के मुद्दे पर लाईनोपार क्षेत्र के पूर्व कौंसलर विजय कुमार शर्मा ने शुक्रवार को अलग ढंग से सरकार के इस निर्णय का विरोध किया। शर्मा ने इस मौके गले में बिजली का मीटर व बिल लटकाया हुआ था हाथ में एलईडी व अपने चारों तरफ तारें लपेटी हुई थे और अपनी जीभ पर तारें लगाकर सरकार को याद करवाया कि इस निर्णय से आम आदमी को करंट लगा है

यदि बिजली दरों वापिस न ली तो वह दिन बहुत अधिक दूर नहीं जब लोगों को पंखों और बल्बों को कूड़े में फेंकने के लिए मजबूर होना पड़ेगा या फिर यह वस्तुएं बेकार पड़ी बर्बाद हो जाएंगी देखते ही देखते इस रोष प्रदर्शन में दर्जनों लोग शामिल हो गए जिन्होंने सरकारी नीतियों के खिलाफ नारेबाजी कर अपनी भड़ास निकाली। शर्मा ने कहा कि चुनाव आचार संहिता खत्म होते ही पंजाब सरकार ने आम आदमी विरोधी रंग दिखाने शुरू कर दिए हैं।

  उन्होंने कहा कि लोगों को सस्ती बिजली मुहैया करवाने का वायदा कर सत्ता में आई कैप्टन सरकार ने बिजली दरों में विस्तार कर कर लोगों पर करोड़ों रूपयों का बोझ डाल दिया है।  उन्होंने इस बात की हैरानी प्रकट की कि बिजली दरों में की गई वृद्धि को एक अप्रैल से लागू किया गया है जो अपने आप में बहुत शर्मनाक बात है। उन्हें राज्य सरकार की नीतियों की आलोचना करते कहा कि पंजाब के लोग पहले ही महंगाई से तंग आए हुए हैं उन पर अतिरिक्त बोझ डाल दिया गया है।

  • लोगों पर करोड़ों रूपयों का डाल दिया  बोझ

पूर्व कौसंलर विजय शर्मा ने कहा कि इस वृद्धि से मध्य वर्ग और निम्न वर्ग के परिवारों का आर्थिक बजट बुरी तरह हिल गया है और जिस कांग्रेस के हक में वोटें डाल कर सत्ता सौंपी थी उसने लोगों का कचूंमर निकालने वाले सभी रिकार्ड तोड़ दिए हैं। उन्होंने चेतावनी दी कि वायदे पूरे न करने का खामियाजा कांग्रेस लोक सभा चुनावोें में भुगत चुकी है यदि बिजली सस्ती न की गई तो कांग्रेस को भविष्य में भी इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा।

इस मौके बड़ी संख्या व्यक्तियों ने कहा कि लोग उस घड़ी को पछता रहे हैं जब उन्होंने कांग्रेस सरकार को वोटें दी थी। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस सरकार ने जो वायदे कर कर वोटें हासिल की थीं, सत्ता संभालने के बाद वह सभी वायदे भुला दिए हैं। उन्होंने कहा कि तेल के भाव बढ़ने से महंगाई की मार ओर भी तेज हुई है और पहले ही टूट चुकी कमर की मार बरदाश्त कर रहे लोगों के लिए बिजली दरों में विस्तार का दर्द असहनीय होगा। उन्होंने इस विस्तार को वापिस लेने की मांग करते लोगों को न्योता दिया कि वह इस निर्णय को रद्द करवाने के लिए संघर्ष करें।

 

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।