हरियाणा में कोरोना के पाँच और मामले बढ़े

0
Coronavirus

सभी तबलीगी जमात से जुड़े लोगों के पॉजीटिव केसों की संख्या पहुंची 35

चंडीगढ़ (अनिल कक्कड़/सच कहूँ)। हरियाणा में कोरोना ने अपने पैर पसारने शुरू कर दिए हैं और इसका जिम्मेवार दिल्ली निजामुद्दीन में हुई मरकज को माना जा सकता है। वीरवार को प्रदेश में पांच नए मामले कोरोना पॉजीटिव के जुड़ और कुल संख्या 35 हो गई, इनमें से पलवल जिले के हथीन क्षेत्र में धर्म प्रचार कर रहे 3 बांग्लादेशी कोरोना पॉजिटिव मिले, तो अम्बाला में दो दिन पहले मस्जिद से क्वारंटाइन किए गए दो लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। वहीं एक-एक नेपाल और महाराष्ट्र के रहने वालों का बताया गया।

सीएम ने पीएम के समक्ष जताई चिंता, बोले- गैर जिम्मेदाराना व्यवहार करने वालों पर होगी कानूनी कार्रवाई

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने वीरवार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ वीडियो कांफ्रेंस पर हुई बातचीत के दौरान तबलीगी जमात के लोगों द्वारा हरियाणा में पैदा किए गए खतरे पर चिंता जताई और भरोसा दिया कि इन लोगों पर बनती कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी, फिलहाल ऐसे लोगों को ढूंढ कर क्वारंटाइन किया जा रहा है।

पलवल में तीन कोरोना पॉजीटिव मामलों ने मचाया हड़कंप

मिली जानकारी के अनुसार पलवल जिला प्रशासन ने 12 लोगों के सैंपल लिए थे, इनमें से 3 पॉजिटिव मिले, जिससे हड़कंप मच गया। वहीं 7 की रिपोर्ट नेगेटिव आई है, जबकि 2 के सैंपल दोबारा मंगाए गए हैं। इन 12 लोगों में से 10 बांग्लादेशी हैं, जबकि दो उनके ट्रांसलेटर थे। इनके संपर्क में रहे 150 से अधिक लोगों की तलाश की जा रही है। विदेशियों की जान पर मंडराते खतरे के कारण उनके सुरक्षा इंतजाम भी कड़े किए गए हैं।

वहीं बाहरी लोगों के गांव में आने की सूचना न देने वाले सरपंचों को डीसी पलवल ने सस्पेंड किया है, इनमें हुंचपुरी, महलूका, दुरैंची, मठेपुर और छांयसा के सरपंचों को बाहर से आने वाले व्यक्तियों की सूचना प्रशासन को न देने के चलते सस्पेंड कर दिया है। इन 5 गांवों के नम्बरदारों व चौकीदारों को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिए गए हैं। बाहर से आए जमाती इन्हीं गांवों में रूके थे।

प्रदेश में 13 हजार 500 लोग निगरानी में

सीएम ने कहा कि राज्य में लगभग 13,500 लोगों को निगरानी में रखा गया है। पॉजिटिव कोरोना वायरस के मरीजों के संपर्क में आए 817 लोगों के सैंपल लिए गए हैं, जिनमें से 546 सैंपल नेगेटिव पाए गए हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान में राज्य में केवल 20 पॉजिटिव मामले हैं जोकि 33 पॉजिटिव मामले थे और इनमें से 13 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। प्रवासी मजदूरों के बारे में मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें भोजन और आश्रय की बुनियादी सुविधाएं प्रदान करने के लिए राज्य में राहत शिविर स्थापित किए गए हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान में 13,000 प्रवासी मजदूरों को इन शिविरों में शरण ली है।

विदेशियों और तबलीगी जमात से लौटे लोगों ने बढ़ाई चिंता

दिल्ली के निजामुद्दीन क्षेत्र में तबलीगी जमात के जमावड़े पर चिंता व्यक्त करते हुए मनोहर लाल ने कहा कि राज्य के पांच जिलों में ऐसे 107 विदेशों से आए हुए व्यक्तियों सहित 1277 ऐसे व्यक्तियों की पहचान की गई है और विदेशों से आए हुए व्यक्तियों का पासपोर्ट भी जब्त कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई हैं और उसी के अनुसार कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने कहा कि 725 ऐसे लोगों को क्वारंटीन में रखा गया है। उन्होंने बताया कि लगभग 13.50 लाख निर्माण श्रमिकों को 1000 रुपये प्रति सप्ताह की दर से वित्तीय सहायता प्रदान की जा रही है। उन्होंने कहा कि जहां राहत प्रदान करने के लिए पहले ही 3000 करोड़ रुपये की राशि खर्च की जा चुकी है, वहीं दूसरी ओर इस महीने के लिए अतिरिक्त 1500 करोड़ रुपये का प्रावधान भी किया गया है।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।