हिमाचल के मुख्य पर्यटन स्थलों नारकंडा और कुफरी में सीजन का पहला हिमपात

0
6
Snowfall in Himachal
snowfall in nainital

शिमला। हिमाचल प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थल नारकंडा और कुफरी में सीजन का पहला हिमपात हुआ है। इन क्षेत्रों में लगभग 18 सेंटीमीटर(सेंमी) हिमपात दर्ज किया गया है। हिमपात रविवार शाम से शुरू हुआ जो सोमवार सुबह तक जारी रहा। इधर, जनजातीय लाहौल स्पीति, किन्नौर और चम्बा जिले के पांगी और भरमौर, कुल्लू के मनाली, कांगड़ा जिले के धौलाधार की पहाड़ियों पर भी मध्यम से भारी हिमपात हुआ है। राज्य के इन क्षेत्रों तथा निचले हिस्सों में भारी बारिश भी हुई है। शिमला जिले के पर्यटन स्थल नारकंडा में 18 से 25 सेमी हिमपात हुआ है जिससे हिंदुस्तान-तिब्बत राष्ट्रीय राजमार्ग पर यातायात प्रभावित हुआ है।

इसके अलावा कुफरी, खड़ा पत्थर और चौपाल के मुख्य द्वार खिड़की में भी छह सेंटीमीटर हिमपात दर्ज किया गया है। इसके कारण सड़कें बंद हो गई हैं। खदराला में करीब एक फुट हिमपात दर्ज किया गया है तथा यहां बिजली, पानी और संचार व्यवस्था ठप्प हो गई है। लाहौल स्पीति जिले के मुख्य द्वार रोहतांग दर्रे पर दो से तीन फुट, सांगला में लगभग 25 सेंटी, कोठी और गोंदला में 20 सेंटी, शिलारू में 10.4 सेंटीमीटर, मनाली में दो, कुफरी में सात सेंटीमीटर हिमपात हुआ है। कांगड़ा की धौलाधार श्रंखला, कुल्लू का जलोडी जोत, चम्बा का साचपास, लेडी आफ केलांग, बरालाचा और लाहौल स्पीति में काजा के कुंजुम दर्रा, किन्नौर जिले के किन्नर कैलाश, हाटू, चांसल दर्रा, डोडरा-कावर, चूरधार में भी हिमपात हुआ है।

बारिश और हिमपात होने से प्रदेश के किसान और बागवान खुश हैं। गत तीन महीनों से किसान बारिश होने का इंतजार कर रहे थे। प्रदेश में हुई व्यापक बारिश से रबि की फसल को फायदा मिलेगा, वहीं धूल प्रदूषण के कारण लोगों को राहत मिली है। हिमपात जल्द होने से सेब की फसल में भी नमी मिलेगी और अच्छी पैदावार होगी। इनके अलावा पर्यटन स्थल डलहौजी में 33 मिलीमीटर, सोलन 27, शिमला 21.6, जुब्बलहट्टी, कुल्लू के ऊनाग और ऊना में 16, पालमपुर 15, धर्मशाला 12.6, भुंतर और सुंदरनगर 12.2, कांगड़ा 12, बिलासपुर 11.5, हमीरपुर और मंडी 11, नाहन नौ, चम्बा छह और कल्पा दो मिमी बारिश हुई है।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।