नारनौल में भ्रूण लिंग जांच गिरोह का पर्दाफाश

0
Fetal gender probe gang busted in Narnaul

स्वास्थ्य विभाग और पुलिस ने मिलकर की कार्रवाई

  • राजस्थान सीमा पर खेतों में पकड़े दो आरोपी
नारनौल (सच कहूँ/विजय कौशिक)। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पुलिस विभाग के साथ मिलकर भ्रूण लिंग जांच करने वाले गिरोह को पकड़ा है। पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार करके आगे की कार्यवाही शुरू कर दी है। सिविल सर्जन-कम-चैयरमैन जिला समुचित प्राधिकरण डॉ. अशोक कुमार को गत दिवस गुप्त सूचना मिली थी कि कुछ लोग नारनौल के आसपास के क्षेत्र में गाड़ी में भू्रण लिंग जांच कर रहे हैं । इस पर उन्होंने एक टीम का गठन किया। इस टीम में डॉ. अरूण कालरा, उप सिविल सर्जन (पीएनडीटी), डीसीओ डॉ. हेमंत ग्रोवर, अतिरिक्त सीनियर मेडिकल ऑफिसर डॉ. हर्ष चौहान व कार्यालय सिविल सर्जन से संजीव शामिल थे। सिविल सर्जन ने बताया कि इन भू्रण लिंग जांच करने वाले गिरोह को पकड़ने के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम ने एक डिकॉय पेशेन्ट तथा एक केयर टेकर तैयार की तथा उसे भू्रण लिंग जांच करवाने के लिए 30 हजार रुपए दिए। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जितेंद्र निवासी निहालपुरा से मोबाईल से संपर्क किया, जिसने भुंगारका गांव के खेतों में राजस्थान बॉर्डर के पास आने को कहा। स्वास्थ्य विभाग की डिकॉय पेशेंट तथा एक केयर टेकर 30 हजार रुपए लेकर भुंगारका गांव के खेतों में राजस्थान बॉर्डर की तरफ गाड़ी में उनकी बताई हुई जगह पर पहुंच गई। वहीं पर गाड़ी में लिटाकर, जैली लगाकर, प्रोब धुमाकर भु्रण लिंग जांच किया और 30 हजार रुपए ले लिए और कहा कि हम आपको एक घंटे में फोन पर बताएंगे कि आपके पेट में लड़का है या लड़की।
पीछे-पीछे स्वास्थ्य विभाग की टीम भी नांगल चौधरी पुलिस के साथ वहां पर पहुंच गई। डिकॉय पेशेंट का इशारा मिलते ही स्वास्थ्य विभाग की टीम तथा पुलिस ने मिलकर उस गिरोह को रंगे हाथों पकड़ लिया। जितेन्द्र निवासी निहालपुरा व विनोद निवासी हमीदपुर को काबू कर लिया। रेडिंग टीम ने मौके से एक वायरलैस प्रोब, जो वाई-फाई से कनैक्ट होकर मोबाईल फोन पर ईमेज भेजता है, तीन मोबाईल फोन, एक जैली बोटल, 30 हजार रुपए नकद (जो रेडिंग टीम द्वारा डिकॉय पेशेंट को दिए गए थे), एक कार आई-20 आरजे 02 सीई-3421, व्हाट्सएप चैटिंग (जिसमें भू्रण लिंग जांच के साक्ष्य मौजुद हैं) बरामद की। गिरोह को पकड़ने में डीपीएम संदीप कुमार, जिला आशा कोर्डिनेटर सुनीता, नांगल चौधरी ब्लॉक आशा कोर्डिनेटर सुभाष सिंह, आशा वर्कर मुनेश व पुलिस विभाग की टीम का पूरा सहयोग रहा। बाद में देर रात तक चली कार्यवाही के बाद दोनों आरोपियों व बरामद सामान को पुलिस के हवाले कर दिया।
जिले में भ्रूण लिंग जांच करने वालों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। ऐसे लोगोंं पर कड़ी नजर है। पीसी एंड पीएनडीटी एक्ट की कड़ाई से पालना की जा रही है। लोगों का नजरिया भी अब बदलने लगा है, लेकिन समाज में बहुत कुछ लोग हैं, जो बेटियों के प्रति नकारात्मक सोच रखते हैं।
उपायुक्त आर.के. सिंह

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।