किसानों ने लगाया जिला परिसर में धरना, प्रदर्शन

0
hand raised protest

‘जमीन तो वापिस कर दी, इंतकाल भी करवाओ’
– एसवाईएल के लिए सरकार ने अधिगृहीत की थी जमीन
Mohali, SachKahoon News:  जिला मोहाली के करीब आधा दर्जन गांवों के किसानों ने जिला प्रशासनिक काप्लेक्स के सामने जोरदार प्रदर्शन किया। किसानों का आरोप था कि उनके गांवों की जमीन करीब 32 साल पहले सतलुज-यमुना लिंक (एसवाइएल) के लिए अधिगृहीत की गई थी। लेकिन बाद में जहां इसका इस्तेमाल गमाडा ने एरोसिटी के लिए कर दिया। किसानों ने कहा कि चूंकि हमारी जमीन एसवाइएल के लिए अधिगृहीत की गई थी और अब सरकार ने जमीन वापस कर दी है तो हमारी जमीन के इंतकाल भी करवाए जाएं। अगर ऐसा नहीं किया गया तो दो दिन बाद मोहाली में
जोरदार प्रदर्शन किया जाएगा।

गमाडा ने एसवाईएल से कमाए करोड़ों रूपए
किसानों का नेतृत्व कर रहे गाव बाकरपुर के पंच व जिला एडवाइजरी कमेटी के मेंबर गुरिंदर सिंह ने बताया कि नारायणगढ़, किशनपुरा, छत, बाकरपुर गांव की जमीन नहर के लिए ली गई थी। लेकिन अब इस पर नहर नहीं बनाई जा रही। बलजिंदर सिंह ने कहा कि जब बाकी किसानों की जमीन वापस हुई है तो हमारी क्यों नहीं। गमाडा हमारी जमीन का इस्तेमाल कर करोड़ों बना रहा है। जब सबको जमीन वापस मिल रही है तो हमें भी मिलनी चाहिए।

उपायुक्त ने मांगा दो दिन का समय
मामले में डीसी डीएस मांग ने कहा कि वे मामले की जांच करेंगे। किसानों को दो दिन का समय दिया गया है। इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।