सड़कों पर उतरे परिजन, अमृतसर-जालंधर हाइवे जाम, स्कूल मैनेजमेंट के खिलाफ कार्रवाई की मांग

0
protest

ब्यास के एक निजी स्कूल के छात्र पर दूसरी कक्षा की छात्रा के साथ स्कूल परिसर में दुष्कर्म मामले को लेकर भड़के परिजन | Protset

  • लड़के के खिलाफ मामला दर्ज कर पुलिस ने जुवेनाइल होम भेजा
  • रविवार को होना था मेडिकल, पोक्सो एक्ट व धारा 376 के तहत मामला दर्ज

अमृतसर/ब्यास (सच कहूँ न्यूज)। बाबा बकाला के एक निजी स्कूल में 8 वर्षीय छात्रा के साथ दुष्कर्म करने के मामले में सोमवार को गुस्साए लोग सड़कों (Protset) पर उतर आए। लोग सुबह ही स्कूल के बाहर जमा हो गए थे और धरने पर बैठ गए। वहीं, कुछ लोगों ने जालंधर-अमृतसर हाईवे भी जाम कर दिया। इससे दोनों तरफ वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लग गई हैं। लोगों का आरोप है कि आरोपी छात्र पर कार्रवाई करने के बाद पुलिस को स्कूल मैनेजमेंट के खिलाफ भी कार्रवाई करनी चाहिए। शाम को एसएसपी अमृतसर ग्रामीण विक्रमजीत दुग्गल के पहुंचने के बाद प्रदर्शनकारी सड़क उठे और स्कूल गेट के आगे धरने पर बैठ गए। लोगों ने कहा कि जब तक प्रबंधन के खिलाफ केस दर्ज नहीं होता वह धरने पर बैठे रहेंगे।

ये है पूरा मामला | Protset

घटना शुक्रवार की है। मामले के अनुसार शुक्रवार को थाना ब्यास के सेक्रेड हार्ट स्कूल के नौवीं कक्षा के 15 वर्षीय छात्र ने दूसरी कक्षा में पढ़ने वाली आठ साल की बच्ची के साथ स्कूल परिसर में ही दुष्कर्म किया था। पुलिस ने दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया था। पीड़ित बच्ची के परिजनों के अनुसार उन्होंने बच्ची को सुबह करीब आठ बजे स्कूल छोड़ा था। करीब दो घंटे बाद स्कूल से फोन पर उन्हें सूचना दी गई कि उनकी बच्ची रो रही है। जब वह स्कूल पहुंचे तो बच्ची ने बताया कि स्कूल के एक छात्र ने उसके साथ दुर्व्यवहार किया है।

वह बच्ची को घर ले आए। कुछ देर बाद बच्ची ने मां को दुष्कर्म के बारे में सारी बात बता दी और पीड़ित बच्ची के परिजन मामले को पुलिस तक ले गए। सामाजिक, राजनीतिक संगठनों ने स्कूल मैनेजमेंट के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। पूरा दिन सोशल मीडिया पर सोमवार को मैनेजमेंट के खिलाफ एकजुट होने व समर्थन में बड़े रोष प्रदर्शन की तैयारियां चलती रहीं। सभी को स्कूल के बाहर 9 बजे एकत्रित होकर घेराव करने को कहा गया था।

ऐसे दिया घटना को अंजाम

स्कूल प्रशासन के अनुसार लड़का शुक्रवार को समय से एक घंटे पहले 7.50 बजे ही स्कूल पहुंच गया था। वह मोटरसाइकिल पर रोजाना स्कूल आता है और पास के ढाबे पर मोटरसाइकिल लगा स्कूल में दाखिल होता है। सीसीटीवी कैमरों की फुटेज स्पष्ट बताती है कि लड़के ने मुंह पर मफलर बांधा हुआ था और आते ही सीधा बच्चों के ब्लॉक में घुसा, जबकि उसका अपना ब्लॉक बिल्डिंग के पिछली तरफ था। आरोपी ब्लॉक के अंत में वॉशरूम के पास गया और पिलर के पीछे छिप गया। जैसे ही दर्जा चार कर्मचारी ने कैंची गेट खोला तो वह छिपकर ब्लॉक में चला गया।

दर्जा चार के दूसरे गेट के पास जाते ही उसने सबसे पहले सीसीटीवी कैमरों का स्विच बंद कर दिया, जिसे पहली दो मंजिलों के सीसीटीवी बंद हो गए। इसके बाद वह पहली मंजिल पर गया। कक्षाओं में बच्चे पहुंच चुके थे। एक-एक कर वह कक्षा में देखता रहा। हर कक्षा में दो या उससे अधिक बच्चे थे। आठ कमरों के अंदर झांकने के बाद वह दूसरी कक्षा में घुसा, जहां आठ साल की पीड़ित अकेली बैठी थी।

स्कूल प्रबंधन ने पीड़िता के परिजनों को भेजा ये मैसेज | Protest

स्कूल प्रबंधन की ओर से बच्चों के पैरेंट्स को जो मैसेज भेजा गया है। इसमें लिखा गया है कि शुक्रवार को स्कूल में हुए अफसोसनाक घटनाक्रम को लेकर बच्चों की सुरक्षा के मद्देनजर स्कूल को अनिश्चितकाल के लिए बंद करने का निर्णय प्रबंधन ने लिया है। अगले आधिकारिक मैसेज आने तक स्कूल बंद रहेगा। स्कूल प्रबंधन इस घटना से आहत है। पैरेंट्स सोशल मीडिया पर चल रही गलत खबरों को लेकर आक्रोशित न हों। स्कूल प्रबंधन इस मामले को गंभीरता से ले रहा है। प्रबंधन आपसे सहयोग की अपील करता है।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।