सुमिरन के लिए समय सुनिश्चित करें

0
Ensure time for Meditation
सरसा। पूज्य हजूर पिता संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां फरमाते हैं कि जो इन्सान मालिक की भक्ति-इबादत करता है, उसकी याद में तड़पता है, मालिक उनके दिलो-दिमाग में बस जाता है। वो मालिक से यही मांगते हैं कि उसे हमेशा मालिक का दीदार होता रहे, वो हमेशा मालिक के प्यार में खोया रहे और दुनिया से बेगाना हो जाए। वह यही दुआ करता है कि हे अल्लाह, ऐसा रहमो-करम कर कि तेरी याद के सिवाय और कुछ याद ही न रहे। ईर्ष्या, नफरत, दुई-द्वेष के लिए कोई जगह न बचे।
पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि इन्सान को सुबह-शाम सुमिरन के लिए समय निश्चित करना चाहिए और बाद में अपने गुजरे हुए समय के बारे में कुछ न कुछ अवश्य सोचना चाहिए कि उसने बीते समय में कितने गलत और कितने सही कर्म किए हैं। जो गलत किया है उसे आने वाले समय के लिए बाहर निकाल देना चाहिए और अच्छी आदतें अपनानी चाहिएं। सुमिरन के द्वारा ही इन्सान अपनी बुराई को छोड़ सकता है। सुमिरन करके इन्सान अपनी बुरी आदतों को छोड़ दे और अच्छी आदतों को दृढ़ता से अपनाए तो मालिक अपनी दया-मेहर उस इन्सान पर जरूर करते हैं।
पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि इन्सान अगर दूसरों को देख-देखकर जलता-भुनता रहता है तो वह अपनी भक्ति, प्यार, मोहब्बत और अपनी सेवा का फल खत्म कर लेता है। फिर तकलीफें, गम, चिंता, परेशानियां खड़ी हो जाती हैं। इसलिए दूसरों की बुराइयां, उनके गुनाह नहीं देखने चाहिएं बल्कि अपनी बुराई, गुनाह को देखो और सुमिरन के द्वारा उनको खत्म करके खुद को पाक-साफ बनाओ। जहां भी कोई निंदा, चुगली हो वहां से कान हटा लेना चाहिए यानि उनके पास नहीं जाना चाहिए क्योंकि निंदा, चुगली आपकी की हुई सारी भक्ति को तबाह कर देती है। वो ऐसी-ऐसी बातें सुनाते हैं कि इन्सान का जमीर भी कांप जाता है और ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इन्सान मन का गुलाम है।
आप जी फरमाते हैं कि इन्सान तब तक मन का गुलाम बना रहता है जब तक वह दसवें द्वार तक नहीं पहुंच जाता। दसवें द्वार में पहुंचने के बाद मन तो पानी भरने लगता है। इन्सान अगर वहां तक नहीं पहुंच सकता तो कम से कम उसे सुमिरन का तो पक्का होना ही चाहिए। चाहे सुमिरन में मन लगे या न लगे, चले या न चले, लेकिन कम से कम आधा घंटा सुमिरन के लिए निश्चित जरूर करे। अगर बंद आंखों से नींद आती है तो खुली आंखों से भी सुमिरन किया जा सकता है, लेकिन आधा घंटा सुमिरन जरूर करना चाहिए। जो इन्सान संत, पीर-फकीरों के वचनों को सुनकर मान लेते हैं वो सुख को प्राप्त कर लेते हैं। इसलिए इन्सान को मालिक का नाम जपना चाहिए, मालिक को याद करना चाहिए। इन्सान अगर ऐसा करता है तो सारे गम, चिंता, परेशानियों से छुटकारा पा लेता है और खुशियों से मालामाल हो जाता है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।