हरियाणा में उद्योग लगाने की राह आसान

0
  • प्रवासी हरियाणा दिवस समारोह। बाहरी निवेश को हरियाणा ने गुजरात की तर्ज पर खोली बाहें
  • रोजगार की संभावनाएं बढ़ाने में जुटी प्रदेश सरकार
  • औद्योगिक विकास के लिए 1200 एकड़ नई जमीन उपलब्ध करवाएगा निगम

ChandiGarh, Anil Kakkar: गत फरवरी माह में जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान प्रदेश ने अपने इतिहास का सबसे भयानक हिंसात्मक आंदोलन देखा जहां हजारों करोड़ की संम्पत्ति की बर्बादी के साथ-साथ 3 दर्जन से ज्यादा लोगों की जान गई। इस बर्बादी के मंजर ने जहां समाज की हवा में नफरत का जहर घोला वहीं व्यापार, बाहरी निवेश को गहरी चोट पहुंचाई। लेकिन अब स्थिति सामान्य है और प्रदेश में रोजगार मुहिम तथा बाहरी निवेश के लिए गुजरात सूबे की तर्ज पर रास्ते खोले जा रहे हैं। इसी क्रम में प्रदेश में उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए एयरोस्पेस व डिफैन्स पॉलिसी, आईटी और ईएसडीएम पॉलिसी, खाद्य प्रसंस्करण नीति, रिटेल पॉलिसी, टैक्सटाइल पॉलिसी, फुटवियर पॉलिसी को सरकार बहुत ही आसान कर दी गयी है। हैदराबाद में प्रवासी हरियाणा दिवस समारोह में प्रदेश की बात रखते हुए हरियाणा राज्य आधारभूत सरचना विकास निगम (एचएसआईआईडीसी) के प्रबंध निदेशक सुधीर राजपाल ने कहा कि प्रदेश में व्यापक सुधारों के दृष्टिगत सरकार उत्पादन लागत कम लाने पर ध्यान केन्द्रित कर रही है, जिसके लिए हरियाणा राज्य औद्योगिक आधारभूत संरचना निगम द्वारा 1200 एकड़ नई भूमि उपलब्ध करवाई जाएगी। इसके अंतगर्त औद्योगिक उपयोग के लिए पंचायती भूमि को 33 वर्षों के दीर्घकालिक पट्टे पर भूमि उपलब्ध करवाने पर विचार भी किया जा रहा है। एचएसआईआईडीसी के प्रबंध निदेशक राजपाल के इस कथन का बड़ा महत्व है क्यों कि प्रदेश एक ऐसे दौर से निकला है जहां यहां पहले से मौजूद उद्योगों तक ने यहां से अपना ठिकाना बदलने की कवायद शुरू कर दिया था लेकिन डैमेज कण्ट्रोल में प्रदेश की सरकार ने बड़ी समझदारी दिखाई है और न केवल प्रदेश में लगे उद्योगों को बाहर जाने से रोका वहीं हरियाणा ग्लोबल इन्वेस्टर समिट जैसे इवेंट्स से विदेशी निवेश को भी प्रदेश की और आकर्षित किया है। उन्होंने कहा कि आज हरियाणा इज-आॅफ-डुईंग बिजनेस में देश में पहले पांच राज्यों में शामिल है और जल्द ही आप सभी के सहयोग से हम पहले स्थान पर होंगे। सरकार ने व्यापार को बढावा देने के लिए इंटरप्राईज पॉलिसी बनाई है, जिसमें इंडस्ट्री के साथ-साथ व्यापार को बढावा देने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए गए हैें। अब तक 550 से ऊपर एमओयू पर साईन हो चुके हैं।
%%%%%%%%
विदेशों में हरियाणवी भी कमा रहे नाम
पड़ोसी राज्य पंजाब की तरह हरियाणा के लोग भी विदेशों में अपनी मेहनत से नाम कमा रहे हैं। इस बाबत सुधीर राजपाल ने कहा कि हरियाणा के लोगों ने देश विदेश में पूरा नाम कमाया है। निवेशकों की मदद के लिए अगर पॉलिसी में भी कहीं सुधार की गुंजाईश होगी तो प्रदेश सरकार इसमें भी बदलाव ला सकती है, जिससे व्यापारी वर्ग और आमजन को ज्यादा से ज्यादा फायदा हो।
%%%%%%%%
बैडमिंटन अकादमी के लिए जमीन देगी सरकार
उद्योगों के साथ-साथ प्रदेश में खेलों को बढ़ावा देने के लिए सरकार बड़े कदम उठा रही है। इसी क्रम में एचएसआईआईडीसी प्रबंध निदेशक सुधीर राजपाल ने प्रसिद्ध बैडमिंटन खिलाड़ी साईना नेहवाल के पिता डॉ0 हरबीर सिंह द्वारा ने हरियाणा में बैडमिंटन अकादमी बनाने के रखे गये प्रस्ताव को स्वीकार करते हुए कहा कि प्रसिद्ध बैडमिंटन खिलाड़ी साईना नेहवाल को मानेसर में एचएसआईडीसी द्वारा स्थान उपलब्ध करवाया जाएगा ताकि प्रदेश में खेलों को प्रोत्साहन मिल सके।