घेराव के दौरान मंडी समिति सचिव के साथ हुई धक्का-मुक्की

0
Protest

मंडी समिति कार्यालय के समक्ष डाला डेरा तो जागे अधिकारी, अब 15 अक्टूबर तक जमाबंदी पर

  • एकबारगी गिरदावरी की शर्त हटी, जमाबंदी पर मिलने लगे टोकन

हनुमानगढ़ (सच कहूँ न्यूज)। नरमा की सरकारी खरीद शुरू न करने के विरोध में मंगलवार को पूर्व घोषणानुसार जंक्शन की धानमंडी स्थित कृषि उपज मंडी समिति कार्यालय के समक्ष किसानों की महापंचायत हुई। महापंचायत के दौरान जब कोई अधिकारी वार्ता करने मौके पर नहीं पहुंचा तो किसानों का आक्रोश फूट गया और वे कार्यालय में घुस गए। इस दौरान उनकी समिति सचिव के साथ धक्का-मुक्की भी हुई।

बाद में मौके पर पहुंचे सीसीआई के अधिकारियों के साथ किसान प्रतिनिधियों की वार्ता हुई। वार्ता में सहमति बनी कि गिरदावरी के बगैर 15 अक्टूबर तक किसानों को जमाबंदी पर ही टोकन जारी कर नरमा की सरकारी खरीद शुरू कर दी जाएगी। इस पर किसानों ने घेराव समाप्त किया। इससे पहले सुबह करीब 11 बजे किसान नेता सुरेन्द्र शर्मा, रघुवीर सिंह वर्मा, मोहन लोहरा, ओम स्वामी, सरपंच बलदेव सिंह मक्कासर, हरदीप सिंह, सोहनलाल खालिया, गोपाल बिश्नोई आदि के नेतृत्व में किसानों ने कृषि उपज मंडी समिति कार्यालय के समक्ष महापंचायत शुरू की।

किसानों को पटवारी अभी गिरदावरी पर्ची जारी नहीं कर रहे

महापंचायत स्थल पर हुई सभा में वक्ताओं ने सीसीआई से नरमे की सरकारी खरीद तुरंत शुरू करने व गिरदावरी की शर्त हटाने या उपलब्ध कराने की मांग की। इस मौके पर किसान नेताओं ने आरोप लगाया कि सीसीआई अधिकारी हर वर्ष किसानों का नरमा खरीदने में आनाकानी करते हैं। नए-नए नियम बनाकर किसानों को बेवजह परेशान किया जाता है। गिरदावरी की अनिवार्यता तो कर दी लेकिन किसानों को पटवारी अभी गिरदावरी पर्ची जारी नहीं कर रहे। इस कारण नरमे की सरकारी खरीद शुरू नहीं हो पा रही। लेकिन किसान अब यह सब बर्दाश्त नहीं करेगा। उन्होंने गिरदावरी की अनिवार्यता समाप्त कर नरमा की सरकारी खरीद शुरू करने की मांग की।

इस दौरान किसानों ने सीसीआई कृषि उपज मंडी समिति अधिकारियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस दौरान सुखविन्द्र सिंह, मशहूर सिंह, विक्रम नैण, अवतार सिंह, राजेन्द्र नोखवाल, बेअंत सिंह, बलदेव सिंह डोडेवाला, अरविन्द दादरवाल, गुरनायब सिंह, यादवेन्द्र सिंह, गुरदेव ज्याणी, हरभजन सिंह, हरमन्द्र सिंह, ठाकुरदास स्वामी, केवलसिंह, देवीलाल सहित कई किसान मौजूद थे।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।