सतीश धींगड़ा इन्सां की बॉडी रिसर्च हेतु दान

0
body donate,

 बेटियों व पुत्रवधू ने दिया अर्थी को कंधा (body donate )

अनूपगढ़, सच कहूँ न्यूज। इस घोर कलियुग में भी लोग अंतिम सांस तक अपने सतगुरु से (body donate, ) ओढ निभाने का वचन पूरा करने वाले ब्लॉक के गांव पतरोड़ा निवासी सतीश धींगड़ा इन्सां 1 जनवरी को अपनी श्वास रूपी पूंजी पूरी करके सतगुरु के चरणों में जा बिराजे उनके द्वारा अपने सतगुरु से किये वायदे के अनुसार ओढ़ निभाते हुए उनके परिजनों द्वारा सतीश धींगड़ा इन्सां के पार्थिव शरीर को बीकानेर होस्पिटल को मेडिकल रिसर्च हेतु दान कर दिया गया। इस अवसर पर ब्लॉक भंगीदास सुरेश उर्फ रिंकु इन्सां ने बताया कि गत दिवस सतीश इन्सां सतीश धींगड़ा इन्सां की अंतिम यात्रा में ब्लॉक अनूपगढ़ के अलावा ब्लॉक घड़साना व बांडा कॉलोनी के जिम्मेवारों व सैकड़ों की संख्या में साध-संगत ने भाग लेकर उनको अंतिम विदाई दी।

वचनों को मानते हुए सतीश धींगड़ा ने अपने सतगुरु से ओढ़ निभाई

डेरा सच्चा सौदा के पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां द्वारा सिखाए गए मानवता भलाई व मरणोपरांत भी अपने शरीर का दान करने सहित अन्य वचनों को मानते हुए आज सतीश धींगड़ा ने अपने सतगुरु से ओढ़ निभाई। इस अवसर पर सतीश इन्सां की बेटियां नीरू रानी व पिंकी ने अर्थी को कंधा देकर बेटे का फर्ज अदा किया। वही सतीश धींगड़ा के पुत्र सुनील व सुधीर पुत्रवधू चंदा व मीना व सुनिता ने अर्थी को कंधा दिया। इस अवसर पर साध-संगत ने सतीश धींगड़ा अमर रहे व पवित्र नारे लगाते हुए अंतिम विदाई दी।

 

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।