दिवंगत पीटीआई की विधवा पत्नियों की पेंशन बंद करना अत्यंत निंदनीय

0
PTI Teacher

नौकरी बहाली के लिए शहर के मुख्य मार्गों पर निकाला जुलूस, की नारेबाजी

भिवानी (सच कहूँ न्यूज)। हरियाणा शारीरिक शिक्षक संघर्ष समिति के प्रधान दिलबाग जांगड़ा के नेतृत्व में अपनी बहाली के लिए बर्खास्त पीटीआई अध्यापकों ने शहर में मुख्य मार्गों पर प्रदर्शन करते हुए भाजपा-जजपा सरकार विरोधी नारे लगाए। उन्होंने कहा कि जब तक हमारी नौकरी बहाल नहीं होगी, हम जब तक सरकार के विरुद्ध धरना प्रदर्शन करते रहेंगे, हरियाणा सरकार अपनी हठधर्मिता को छोड़कर विधानसभा में विधेयक लाकर सभी 1983 पीटीआई की सेवा बहाल करे, अन्यथा 1983 शारीरिक शिक्षक हरियाणा शारीरिक शिक्षक संघर्ष समिति व तालमेल कमेटी के साथ मिलकर एक बहुत बड़ा आंदोलन सरकार के विरुद्ध करेंगे।

राजेश ढाडा, बलवान डीपीई वीरेंद्र घनघस, राजपाल तंवर, जरनैल सिंह, विनोद पिंकू, विनोद बॉक्सर, रामपाल सिंह ने कहा कि स्कूलों में बच्चों को खेल के हुनर सिखाकर हरियाणा के बच्चों को राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भेजकर शारीरिक शिक्षक अपनी व परिवार की रोजी-रोटी बचाने के लिए सड़कों पर उतरे हुए हैं। भाजपा-जजपा सरकार के विधायक, मंत्री व सांसदों से सिवाय आश्वासन के कुछ नहीं मिल रहा। पिछले वर्ष खेलो इंडिया में हरियाणा को आॅल ओवर ट्रॉफी जितवाने का श्रेय भी शारीरिक शिक्षकों को जाता है। हरियाणा का नाम खेलों में राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने वाले पीटीआई अध्यापक आज दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर हो रहे हैं। हद तो जब हो गई जब दिवंगत पीटीआई की विधवा पत्नियों को सरकार की तरफ से मिलने वाली पेंशन को बंद कर दिया।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।