पंजाब

डेरा श्रद्धालुओं ने 36 जरूरतमन्द परिवारों को वितरित किया राशन

Dera Sacha Sauda

साध-संगत ने पुलवामा में शहीद हुए शहीदों को दी श्रद्धांजलि

अबोहर(सुधीर अरोड़ा)।

पूजनीय परमपिता शाह सतनाम सिंह जी महाराज के पावन महारहमोकर्म (गुरुगद्दी) माह के उपलक्ष्य में ब्लॉक आजम वाला की ब्लॉक स्तरीय नामचर्चा का आयोजन रविवार को किया गया। नामचर्चा के दौरान कविराजों द्वारा पवित्र ग्रंथों से शब्दवाणी की गई, जिसे उपस्थित साध-संगत ने बड़ी श्रद्धा के साथ श्रवण किया।

इस मौके पर ब्लॉक जिम्मेवार बनवारी लाल इन्सां ने डेरा सच्चा सौदा द्वारा पूज्य गुरु संत डॉ.गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां की रहनुमाई में चलाए जा रहे 134 समाज भलाई कार्यों के बारे साध-संगत से विचार प्रकट किए। इस दौरान जम्मू कश्मीर के पुलवामा में पूरे हिंदुस्तान को झकझोर कर रख देने वाली घटना में शहीद हुए जवानों की आत्मिक शांति हेतू खड़े होकर 2 मिनट का मौन रखकर 10 मिनट का सुमिरन कर श्रद्धांजलि अर्पित की गई व घायलों के जल्द स्वस्थ होने हेतू ईश्वर से प्रार्थना की गई।

समूह साध-संगत द्वारा भारतीय सेना पर हुए इस हमले की कड़े शब्दों में निंदा की गई व सेना का साथ देना का भरोसा व्यक्त किया गया। उन्होंने कहा कि डेरा सच्चा सौदा की साध-संगत द्वारा समय-समय पर रक्तदान कैंप लगाकर भारतीय सेना के लिए रक्तदान भी किया जाता है। इस मौके पर फूड बैंक द्वारा 11 अति जरूरत मन्द परिवारों को एक-एक माह का राशन भी वितरण किया गया। इस मौके पर ब्लॉक जिम्मेवार बनवारी लाल इन्सां, परविंदर हैपी, सुरेंद्र, ओमप्रकाश, मैनपाल, अमर लाल, संदीप व शाह सतनाम जी ग्रीन एस वेलफेयर फोर्स विंग के सदस्य उपस्थित हुए।

शहीद सैनिकों को किया नमन

Dera Sacha Sauda

बरनाला। डेरा सच्चा सौदा की पवित्र शिक्षाओं पर चलते ब्लॉक महल कलां की साध-संगत ने 25 जरूरतमंदों को राशन बांटा। उपरांत पुलवामा में शहीद हुए सैनिकों को श्रद्धांजलियां भी भेंट की गई। जानकारी देते भंगीदास हजूरा सिंह इन्सां ने बताया कि की डेरा सच्चा सौदा के पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां जी की ओर से दी जाने वाली शिक्षाओं पर चलते ब्लॉक महल कलां की साध-संगत ने न केवल आर्थिक तौर पर मंदहाली का शिकार हुए जरूरतमंदों की तरफ मदद का हाथ बढ़ाते 25 परिवारों को घरेलू प्रयोग का सारा राशन देकर न सिर्फ इंसानियत का फर्ज निभाया बल्कि डेरा सच्चा सौदा की इंसानियत प्रति सोच को मशहूर किया। उपरांत देश की चौकीदारी के लिए पुलवामा में शहीद हुए सैनिकों को याद किया गया। इस मौके नाथ सिंह महल कलां, पूरन सिंह, सुखपाल सिंह आदि उपस्थित थे।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top

Lok Sabha Election 2019