गेहूं की सरकारी खरीद नहीं करेंगे आढ़ती, किसान बैरंग लौटे

0
Demand

मीटिंग कर लिया निर्णय, प्रशासनिक अधिकारियों से वार्ता बेनतीजा (Demand)

  • पुराने नियमों पर गेहूं की खरीद करने की मांग

चरखी दादरी (सच कहूँ न्यूज)। गेहूं की सरकारी खरीद के पहले दिन दादरी जिला की मंडियों में किसान गेहूं लेकर तो पहुंचे, लेकिन आढ़तियों ने खरीद करने से मना कर दिया। जिसके कारण दादरी जिला के किसानों को अपनी फसल के साथ बैरंग लौटना पड़ा। आढ़तियों ने मीटिंग करते हुए पुराने नियमों अनुसार खरीद करने की मांग की। साथ ही कहा कि अगर उनकी मांगे नहीं मानी गई तो वे गेहूं की खरीद नहीं करेंगे। (Demand) वहीं आढ़तियों व प्रशासनिक अधिकारियों की मीटिंग हुई, जो बेनतीजा रही। फिलहाल किसानों द्वारा मंडियों में डाली गई गेहूं की फसल पर जहां बारिश के बादल मंडराने लगे हैं। सरकार द्वारा खरीद एजेंसियों के माध्यम से सोमवार को गेहूं की सरकारी खरीद शुरू की गई है।

 आढ़तियों व प्रशासनिक अधिकारियों की आढ़तियों से भी वार्ता हुई

खरीद के पहले दिन किसान गेहूं लेकर मंडियों में पहुंचे जरूर लेकिन आढ़तियों ने गेहूं लेने से मना कर दिया। आढ़ती एसोसिएशन के प्रधान रामकुमार रिटोलिया की अध्यक्षता में आढ़तियों की मीटिंग नई अनाजमंडी में हुई। जिसमें सर्वसम्मति से निर्णय लिया कि अगर सरकार पुराने नियमों अनुसार खरीद करवाए तो ही आढ़ती गेहूं की खरीद करेंगे। अन्यथा इस बार गेहूं की सरकारी खरीद नहीं करेंगे।

  • वहीं आढ़तियों व प्रशासनिक अधिकारियों की आढ़तियों से भी वार्ता हुई।
  • जिसमें आढ़तियों अपनी मांगों पर अड़े रहे।
  • वहीं फसल लेकर मंडी आए किसान मार्केट कमेटी कार्यालय पहुंचकर समाधान की मांग की।
  • किसानों ने कहा कि देर रात किसानों के मोबाइल पर खरीद का मैसेज आता है।
  • ऐसे में किसान अपनी फसल कैसे ला सकता है। किसान इस खरीद से काफी परेशान हैं।

भाकियू जिलाध्यक्ष जगबीर घसोला ने कहा कि जिन किसानों के गेट पास कट चुके हैं और गेहूं मंडी में आ चुका है, खरीद की जाए। अन्यथा किसान व भाकियू लॉकडाउन का उल्लंघन करते हुए रोष जताएंगे। आढ़ती एसोसिएशन के प्रधान रामकुमार रिटोलिया ने बताया कि गेहूं खरीद के दौरान फसल का पैसा आढ़तियों के माध्यम से किसानों को दिया जाए, जिला में मंडियों की संख्या कम हो और आढ़तियों को मिलने वाली आढ़त भी पुराने नियमों अनुसार मिले। उन्होंने बताया कि आढतियों ने मीटिंग करके गेहूं की खरीद नहीं करने का निर्णय लिया है। जो गेहूं मंडियों में पहुंचा है, उसकी बिडिंग व लिफ्टिंग नहीं की जाएगी। अगर कोई आढ़ी निर्णय की अवहेलना करेगा तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।