हरियाणा

जीएसटी लागू होने से बढ़ी योग्य अकाउंटैंट्स की मांग

Demand, Qualified, Accountants, Increased, GST, Online, Tax, CA

बढ़ा रोजगार : 20 लाख टर्नओवर नियम से बढ़ीं 8 से 10 फीसदी फर्में

चंडीगढ़(अनिल कक्कड़)। 1 जुलाई से देश भर हरियाणा एवं पंजाब में लागू हुए गुड्स एवं सर्विस टैक्स (जीएसटी) के बाद हरियाणा एवं पंजाब में योग्य अकाउंटैंट्स की मांग बेहद बढ़ गई है।

बड़ी-छोटी उद्योग इकाईयां रोजाना अखबारों, आॅनलाइन पोर्ट्ल्स इत्यादि पर विज्ञापन देकर अकाउंटैंट्स खोज रही हैं। बता दें कि 20 लाख से ज्यादा सालाना टर्नओवर पर जीएसटी लगने के नियम से 8 से 10 फर्मंे टैक्स के दायरे में और बढ़ गई हैं।

चंडीगढ़ के एक व्यवसायी कृष्णकांत शर्मा के अनुसार पूर्व में 1.50 करोड़ रुपए तक सालाना टर्नओवर वाली फर्म टैक्स से बाहर थी, लेकिन अब 20 लाख रुपए सालाना टर्न ओवर के नियम से बहुत से लोग टैक्स के दायरे में आ गए हैं। ऐसे में जो लोग टैक्स के दायरे में नए आए हैं उन्हें जीएसटी समझने में अभी वक्त लगेगा।

सीए रखना नहीं हर किसी के बस की बात

कायरॉस लिमटिड के मालिक विनीत कश्यप कहते हैं कि चार्टेड अकाउंटैंट (सीए) रखना हर किसी के बस की बात नहीं है। हालांकि जीएसटी की जानकारी के लिए सैमीनार आदि आयोजित करवाए जा रहे हैं लेकिन बहुत से लोग हैं जो जीएसटी को पूरी तरह समझ नहीं पाए हैं।

कश्यप के अनुसार अभी भी बहुत से सरकारी अधिकारी भी ऐसे हैं जिन्हें खुद जीएसटी के बारे में पूरी तरह नहीं पता। ऐसे में चीजें सामान्य होने में अभी काफी वक्त लगने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता।

अकाउंटैंटस तैयार करने का इंस्टीटयूशन ही नहींं

जीएसटी पर कई सैमीनार में अपना वक्तव्य दे चुके चंडीगढ़ बेस्ड सीए रोहित भटनागर के अनुसार पूरे देश में ऐसा कोई इंस्टीच्यूट नहीं है जहां केवल योग्य अकाउंटैंट्स तैयार किए जाते हों।

उनके अनुसार यहां केवल व्यापारियों को कन्फयूज़न नहीं है अपित बाजार जो कि बहुत धीमी गति से आगे बढ़ रहे हैं वह भी समस्या है। भटनागर के अनुसार हरियाणा पंजाब में 10 गुना से ज्यादा लोग टैक्स के दायरे में नए आए हैं जिन्हें जीएसटी के बारे में अभी बहुत कुछ जानना है।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top

Lok Sabha Election 2019