जीत की हैट्रिक बनाने उतरेगी दिल्ली

0
IPL Delhi

अबु धाबी (एजेंसी)। कप्तान श्रेयस अय्यर के कुशल नेतृत्व में शानदार प्रदर्शन कर रही दिल्ली कैपिटल्स की टीम मंगलवार को सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ होने वाले आईपीएल मुकाबले में जीत की हैट्रिक दर्ज करने के इरादे से उतरेगी जबकि शुरूआती दो मैच हार चुकी डेविड वार्नर की कप्तानी वाली सनराइजर्स हैदराबाद की निगाहें अपनी गलतियों में सुधार कर वापसी करने पर लगी होंगी। दिल्ली आईपीएल 13 के अपने दोनों मुकाबले जीतकर चार अंकों के साथ अंक तालिका में शीर्ष स्थान पर है जबकि हैदराबाद की टीम अपने दोनों मुकाबले गंवाकर आठवें स्थान पर है। दिल्ली ने पहले मैच में किंग्स इलेवन पंजाब को सुपर ओवर में हराया था और पिछले मुकाबले में चेन्नई सुपर किंग्स को पराजित किया था।

हैदराबाद को पहले रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु ने 10 रन से और पिछले मुकाबले में कोलकाता नाइट राइडर्स ने सात विकेट से मात दी थी। दिल्ली के लिए पिछले मुकाबले में उसके दोनों सलामी बल्लेबाज शिखर धवन और पृथ्वी शॉ ने मजबूत शुरूआत दिलाई थी। धवन ने 35 और पृथ्वी ने 64 रन बनाए थे। दिल्ली की तरफ से उस मुकाबले में बल्लेबाज और गेंदबाजों ने अपनी भूमिका बखूबी निभाई थी और टीम काफी संतुलित दिख रही है। विकेटकीपर बल्लेबाज रिषभ पंत ने भी सधी हुई बल्लेबाजी की थी। दिल्ली टीम ने अब तक काफी शानदार प्रदर्शन किया है और टूनार्मेंट में अपनी दावेदारी मजबूत बनाए रखने के लिए उसे अपनी लय को बरकरार रखना होगा। दिल्ली अगर अपनी अगली चुनौती पार कर लेती है तो वह जीत की हैट्रिक पूरी कर लेगी।

दिल्ली ने महेंद्र सिंह धोनी के नेतृत्व वाली चेन्नई की टीम को पूरी तरह ध्वस्त किया था। दिल्ली के गेंदबाजों ने भी इस मुकाबले में काफी अच्छा प्रदर्शन किया था और 176 रन के स्कोर को बखूबी बचाव किया था। दिल्ली की ओर से कैगिसो रबादा ने एक बार फिर अपनी क्षमता के अनुरुप प्रदर्शन किया और चार ओवर में 26 रन देकर तीन विकेट झटके। रबादा और एनरिच नोर्त्जे की तेज गेंदबाज जोड़ी ने चेन्नई को रोके रखा और उन्हें रन गति तेज नहीं करने दी थी। नोर्त्जे ने दो विकेट हासिल किए थे। इन दोनों गेदबाजों की जोड़ी अगर अपनी लय में हो तो किसी भी टीम के लिए परेशानी का सबब बन सकती है। वार्नर को इनसे खास तौर पर सतर्क रहना होगा। टूर्नामेंट में अपनी पहली जीत की तलाश में जुटी हैदराबाद के सामने संतुलित और लगातार दो मैच जीतने से उत्साहित चल रही दिल्ली की चुनौती होगी।

हैदराबाद को केकेआर के खिलाफ खेले गए पिछले मुकाबले से सीख लेते हुए अपनी बल्लेबाजी पर विशेष ध्यान केंद्रित करना होगा। हैदराबाद के सामने सबसे बड़ा चैलेंज उसके मध्य क्रम का लड़खड़ाना है। हैदराबाद के बल्लेबाज केकेआर के खिलाफ प्रदर्शन करने में विफल रहे थे। हालांकि उसके लिए राहत की बात है कि शीर्ष क्रम के बल्लेबाज मनीष पांडे फॉर्म में है और उन्होंने कोलकाता के खिलाफ सर्वाधिक 51 रन बनाए थे। हैदराबाद के पास वार्नर, जॉनी बेयरस्टो, पांडे और मोहम्मद नबी जैसे अच्छे बल्लेबाज हैं जो बड़ा स्कोर बनाने का माद्दा रखते हैं। लेकिन उन्हें इस फॉर्मेट में रन गति तेज करने के महत्त्व को समझना होगा। वार्नर ने कोलकाता के खिलाफ अपने बल्लेबाजों के जरूरत से ज्यादा सावधानी दिखाने के रवैये की कड़ी आलोचना की थी और साथ ही कहा था कि 35-36 डॉट बॉल खेलकर मैच नहीं जीता जा सकता।

हैदराबाद ने 20 ओवर में चार विकेट खोकर मात्र 142 रन बनाये थे जबकि कोलकाता ने 18 ओवर में यह मुकाबला जीत लिया था। हैदराबाद के कप्तान ने कहा था कि बल्लेबाजों को विपक्षी गेंदबाजों पर दबाव बनाना चाहिए था और मध्य ओवरों में बॉउंड्री निकालनी चाहिए थी। कप्तान ने कहा था कि वह इस बात से बहुत निराश हैं कि उनके बल्लेबाजों ने ज्यादा डॉट बॉल खेलीं। मध्य ओवरों को देखा जाए तो बल्लेबाजों ने 35-36 डॉट बॉल खेलीं जो टी-20 क्रिकेट में कतई स्वीकार नहीं किया जा सकता। बल्लेबाजों को अपना मानसिक दृष्टिकोण बदलने की जरूरत है। हैदराबाद को टी-20 प्रारुप के हिसाब से खेल का आगे बढ़ाना होगा। दिल्ली के लिए हैदराबाद को हल्के में नहीं लेना चाहिए क्योंकि अति उत्साह में की गयी एक भी गलती उसे भारी पड़ सकती है।

हैदराबाद के बल्लेबाजों को तेजी से रन बटोरने होंगे और बड़ी साझेदारियां करनी होंगी जिससे एक बड़ा स्कोर खड़ा किया जा सके। हैदराबाद की बल्लेबाजी कोलकाता के खिलाफ काफी धीमी रही थी। टीम के स्टार लेग स्पिनर राशिद खान को जल्द ही फॉर्म में लौटना होगा और टीम के गेंदबाजी क्रम को मजबूती देनी होगी। वार्नर को खुद सामने से टीम का नेतृत्व करने की जरुरत है जिससे मध्य क्रम पर दबाव कम पड़े। इस मुकाबले में दिल्ली का पलड़ा भारी माना जा रहा है लेकिन उसे संयम रखकर हैदराबाद की चुनौती से पार पाना होगा जो अपनी पहली जीत के लिए अपना दमखम लगाएगी। दिल्ली की एक गलती हैदराबाद को अपनी राह आसान करने में मददगार साबित हो सकती है जबकि हैदराबाद को पिछले हार भुलाकर तथा अपनी गलतियों से सीख लेकर टूनार्मेंट में वापसी करनी होगी।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।