अपने गार्डन को सजाएं पेटुनिया के फूलों से

0
Decorate your garden with petunia flowers

पेटुनिया के फूलों की खेती (Petunia Flowers)

पेटुनिया सबसे लोकप्रिय फूलों में से एक फूल होता हैं । इस फूल के लगभग 4 प्रजातियां हैं जो दक्षिण अमेरिका से उत्पन्न होती हैं। (Petunia Flowers) पेटुनिया के फूलों की खेती भारत में भी की जाती है। अब यह फूल हर रंग में देखने को मिल जाता है लेकिन इसका असली रंग नीला होता है । यह फूल गुलाबी, बैगनी, पीला आदि रंगों में पाया जाता है। यह तुरही आकार का फूल होता है और गर्मियों के मौसम में खिलता है। इस फूल की देखभाल करना बहुत ही सरल और आसान होता है। इसके पौधे कैसे लगाए जाए ये सीखने के बाद आप उन्हें किसी कंटेनर में या गार्डन में लगा सकते हैं। ऐसा कहा जाता है की यह पेटुनिया वही बढ़ता है जहाँ पर आस-पास का मौहाल अच्छा होता है। पेटुनिया के फूल का आकार इसके विविधता पर निर्भर करता है। इसके पौधे लगभग 6 इंच से 4 फीट की ऊंचाई तक बढ़ सकते है । आमतौर पर यह फूल केवल 1 इंच चौड़े होते हैं। लेकिन वे चमकीले रंग के होते हैं और बहुतायत में बढ़ते हैं । इसके पत्ते हरे रंग के होते हैं जो बालों से ढके होते हैं। इसकी पत्तियां दिल के आकार की या अंडाकार भी हो सकती हैं। मूल रूप से इसके सभी फूल सुगंधित होते है ।

जलवायु

पेटुनिया- अपेक्षाकृत कठोर परिस्थितियों और गर्म जलवायु को सहन कर सकता है । इसके पौधे को हर दिन कम से कम पांच घंटे धूप की जरूरत होती है। लेकिन गर्मी के मध्य में आंशिक छाया उन्हें ताजा और बेहतर बनाए रखेगा । इसका अधिकतम विकास देर से वसंत के समय में होता है। इसकी अधिकांश किस्मे अच्छी तरह से पूरे गर्मियों में ही खिलते है ।

पौधे का रोपण कैसे करें

इस फूल के पौधे को बोना आसन है अगर आप नीचे बतलाये गए टिप्स का पालन करें-
  • पहले किसी पॉट में मिट्टी को भरे ।
  • अब मिट्टी पर हल्के से बीज छिड़कें और हल्का सा मिट्टी के साथ परत दे।
  • ध्यान रहे की मिटटी की परत ज्यादा नहीं होनी चाहिये। क्योंकि अंकुरित होने के लिए इसके बीज को प्रकाश की आवश्यकता होती है।
  • अब हलके हाथ से मिट्टी के मिश्रण पर हल्के दबाएं । उसके बाद हल्के गुनगुने पानी से स्प्रे करें।
  • अब गुंबद से या स्पष्ट प्लास्टिक बैग के साथ कंटेनर को कवर करें और फिर कंटेनर को मध्यम प्रकाश लगभग 21 से 26 डिग्री सेल्सियस तक में रखे ।
  • बीज लगभग 10 दिनों में अंकुरित होने लगेगा । जब आपको अंकुर नजर आने लगे तब इसके वृद्धि के लिए गुंबद या बैग को हटा दें और पौधों को अधिक प्रकाश में रख दें। कुछ हीं दिनों में यह पौधे का रूप के लेगा और कुछ महीनो में फूल देने लगेगा।

 कैसे करें पौधे की देखभाल

यह फूल कम आर्द्रता और नम मिट्टी में अच्छी तरह से विकसित होते हैं । इन्हें बीजों से उगाया जा सकता है। अधिकांश क्षेत्रों में इसके पौधे को सप्ताह में एक बार पानी देना काफी होता है । हैंगिंग बास्केट और अन्य कंटेनरों को लगातार पानी की आवश्यकता पड़ती है । इसके विभिन्न प्रकार के प्रजातियों को मासिक या साप्ताहिक रूप से उर्वरक देने की जरुरत पड़ती है जिससे इसके पौधे को जल्दी बढ़ने में मदद मिलती है । कुछ किस्मों को फूल की कलियों को स्थापित करने के लिए लगातार डेडहेडिंग और कुछ स्टेम छंटाई की आवश्यकता पड़ती है ।
पेटुनिया फूल की प्रजातियाँ
पेटुनिया फूल को चार अलग-अलग समूहों में बांटा गया है।
  1. ग्रैंडि फ्लावर
  2. मल्टी फ्लावर
  3. मिले फ्लावर
  4. स्परीडिंग फ्लावर

अधिक जानकारी 

ग्रैंडि फ्लावर- ग्रैंडिफ्लोरा में बहुत बड़े बड़े फूल होते हैं और ये कंटेनर या हैंगिंग बास्केट में बड़े होते हैं ।
मल्टी फ्लावर– मल्टीफ़्लोरा में छोटे फूल होते है लेकिन यह फूल अधिक प्रचुर मात्रा में खिलते हैं ।
मिले फ्लावर– मिलेफ्लोरा कॉम्पैक्ट और विद्रोही का लघु संस्करण हैं।
स्परीडिंग फ्लावर– यह केवल 6 इंच लंबे होते हैं और तेजी से बढ़ने के साथ पूरे जमीन को कवर करने का काम करता है।

कुछ विशेष बातें

  • पेटुनिया फूल एक फूलदार पौधा होता है जो नाइटशेड परिवार से तालुक रखता है। इसकी मुख्यत: 4 प्रजातियां हैं। यह मुख्यता दक्षिण अमेरिका से पाई जाती हैं।
  • 19 वीं शताब्दी में यूरोप में पेटूनिया को लाया गया था जहां इसे सजावटी पौधे के रूप में तुरंत लोकप्रियता हासिल हो गयी ।
  • पेटुनिया उन जगहों में उगाया जाता है जहा की मिट्टी उपजाऊ हो और 4 से 6 घंटे सूर्य की रौशनी पहुंच पाए। यह ठंड बर्दाश्त नहीं करता है।
  • ठण्ड के मौसम में इसे घर के अन्दर रखे।
  • पेटुनिया का आकार लगभग 5 इंच से 4 या 5 फीट तक होती जोकि ओर बढ़ सकती है।
  • इसके पत्ते हरे रंग के होते हैं जो बालों से ढके होते हैं। पत्तियां आकार अंडाकार या दिल के आकार की हो सकती हैं।
  • पेटुनीया फूल तुरही के आकार में उगते हैं और सभी रंगों में उपलब्ध होते हैं। सफेद, पीले, लाल, गुलाबी या बैंगनी रंग के होते हैं (नीले रंग में नहीं होता है)। यह एक बहुरंगीए भिन्न और धारीदार रूप खिलते है ।
  • इसे चार मुख्या समूहों में बाटा गया है जो इस प्रकार है-: हेडगिफ्लोराए ग्रैंडिफ्लोराए मिलिफ्लोरा और मल्टीफ्लोरा ।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।