एम्स के फ्लैट्स में लाए गए कोरोना पॉजिटिव, बाढ़सा गांव में दहशत

0
Coronavirus

पहले लॉकडाउन, अब मरीजों की वजह से घरों में बंद हुए लोग

गुरुग्राम(संजय मेहरा/सच कहूँ)। Haryana Ke Samachar:कोरोना पॉजिटिव के मामलों को देखते हुए देशभर में लॉकडाउन के चलते यूं तो पहले से ही बाढ़सा गांव के लोग अपने घरों में दुबके थे। लेकिन अब तो वे एक तरह से घरों में बंद हो गए हैं। क्योंकि गांव की जमीन पर बने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट की रिहायशी कॉलोनी के फ्लैट्स में कोरोना के पॉजिटिव लोगों को ठहराया गया है। बताया जा रहा है कि ये लोग वो हैं, जो कि दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में मरकज से लौटे थे। इसकी वजह से गांव में दहशत का माहौल है।

बता दें कि दिल्ली के निजामुद्दीन में एक साथ मिले ढाई हजार लोगों का देश के अलग-अलग हिस्सों में फैल जाने के कारण स्थिति खराब हो गई। उन्हीं में से कुछ हरियाणा के भी थे। इसमें से 120 लोगों की जांच के बाद पता चला कि 94 लोग कोरोना संक्रमण के पॉजिटिव हैं। इन सभी 94 कोरोना पॉजिटिव लोगों को बाढ़सा एम्स लाया गया है। इसी एम्स में बाढ़सा गांव के करीब 400 युवा किसी न किसी पद पर नौकरी कर रहे हैं। ग्रामीणों का दर्द यही है कि किसी तरह से एक युवा भी इन कोरोनो संक्रमित व्यक्तियों के संपर्क में आ गया तो गांव के लिए यह बहुत बड़ी त्रासदी का खतरा पैदा हो जाएगा। क्योंकि जब तक कुछ पता चलेगा, तब तक बीमारी गांव के अनेक लोगों को लग चुकी है।

कर्मचारियों को मिले सुरक्षा के सभी उपकरण

सरपंच इस बाबत बाढ़सा गांव की सरपंच नरेश कुमारी का कहना है कि गांव के इतनी अधिक संख्या में युवा एम्स में नौकरी कर रहे हैं। ऐसे में उनकी सुरक्षा बहुत ही जरूरी है। अभी तक तो सामान्य मरीजों के बीच बिना किसी सावधानी के काम करवाया जा रहा था। लेकिन अब एम्स प्रशासन को इन कर्मचारियों को सभी सुरक्षा उपकरण दिए जाने चाहिए। क्योंकि कोरोना वायरस की बीमारी घातक है।

गुरुग्राम में बढ़कर 6 हुए कोरोना पॉजिटिव

गुरुग्राम में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या एक से बढ़कर 6 हो गई है। बीते रोज रोहतक पीजीआईएमएस से आई सेंपल की रिपोर्ट में यहां मरीज बढ़े हैं। बता दें कि इससे पूर्व यहां कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 10 तक चली गई थी। लॉकडाउन के बीच सीमाएं सील करके प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग, पुलिस ने काफी पॉजिटिव काम किया। इसी बीच यह संख्या घटकर मात्र एक रह गई थी। अब एकाएक पांच पॉजिटिव आए और कुल संख्या छह हो गई है। बताया जा रहा है कि इनमें से एक पुरुष वह है, जो कि निजामुद्दीन जमात से आया था।

फर्रूखनगर से टैक्सी चालक आईसोलेशन वार्ड में भर्ती फर्रूखनगर क्षेत्र के गांव बावड़ा बाकीपुर में थाना फर्रूखनगर पुलिस ने एक टैक्सी चालक को कोरोना वायरस के शक के चलते जांच के लिए गुरुग्राम नागरिक अस्पताल में भेजा है। चालक के रक्त के सेंपल लेने के बाद उसे आईसोलेशन वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। थाना प्रभारी सवित कुमार के मुताबिक गांव बावड़ा बाकीपुर निवासी व्यक्ति एक कंपनी की टैक्सी चलाता है। वह 14 मार्च को हवाई अड्डे से बंगलौर से आए एक यात्रा को लेकर निजामुद्दीन स्थित दरगाह में छोड़कर आया था। उस सवारी का नाम उस सूची में है, जो कि निजामुद्दीन दरगाह के मामले को लेकर तैयार की गई है। हेलीमंडी के टोडापुर में मिले लोगों के बाद से पुलिस निजामुद्दीन दरगाह में शामिल हुए लोगों की तलाश में जुटी हुई है।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।