कोरोना वैक्सीन का पीजीआई रोहतक में ट्रायल शुरू, आ रहे सकारात्मक परिणाम

0
Covid Vaccine

प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने दी जानकारी (Corona vaccine trial)

  • रोहतक पीजीआई सहित देश के 10 बड़े अस्पतालों में होंगे वैक्सीन के ट्रायल

चंडीगढ़ (अनिल कक्कड़)। देश और प्रदेश में जारी कोरोना से जंग में राहतक की खबर शुक्रवार को प्रदेश के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने दी। विज ने बताया कि पीजीआई रोहतक में शुक्रवार से कोरोना वैक्सीन का ट्रायल शुरू हो गया है। उन्होंने कहा कि पीजीआई रोहतक में वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है। पहले चरण में तीन चीजों पर यह ट्रायल किया गया। अभी तक कोई साइड इफेक्ट देखने को नहीं मिला है, फिर भी अभी परिणामों के बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता। ट्रायल पूरा होने के बाद ही रिजल्ट पता लगेंगे, उम्मीद है नतीजा सकारात्मक होगा। वैक्सीन के पहले ट्रायल की जानकारी खुद हरियाणा के स्वास्थ्य एवं गृह मंत्री अनिल विज ने ट्वीट करके दी है। बता दें कि बायोटेक कंपनी की वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल के लिए रोहतक पीजीआईएमएस सहित देशभर के 13 चिकित्सा संस्थान को अनुमति दी गई थी। उसी का यह पहला चरण है।

सहमति पत्रों के साथ इन चरणों में होंगे ट्रायल

जानकारी के अनुसार देश भर में ये ट्रायल दो चरणों में क्रमश: 375 और 750 वॉलेंटियर पर किया जाएगा। 28 दिन चलने वाली प्रक्रिया में सबसे पहले वॉलेंटियर्स से सहमति पत्र लिया जाएगा। इसके बाद हेल्थ व कोरोना टेस्ट कराए जाएंगे। ट्रायल के पहले चरण में 18 से 55 साल और दूसरे फेज में 12 से 65 साल तक के वॉलेंटियर्स को शामिल किया जाएगा।

वैक्सीन की डोज देने के बाद इस तरह जांची जाएगी उसकी कारगरता

जानकारी के अनुसार कोविड-19 की रिपोर्ट आने के बाद वैक्सीन की डोज दी जाएगी। पहली डोज के बाद 14 दिन बाद दोबारा डोज दी जाएगी। दूसरी डोज के 14 दिन बाद ब्लड सैंपल में इम्यूनोग्लोबिन जांचा जाएगा, ताकि पता चल सके कि मरीज के शरीर में वायरस से लड़ने की क्षमता कितनी बढ़ी है। क्योंकि जब भी किसी व्यक्ति को वायरस से लड़ने के लिए वैक्सीन दी जाती तो उसमें रोग प्रतिरोधक सेल एक्टिवेट होते हैं। वैक्सीन लगने के बाद वॉलेंटियर्स में वायरस से लड़ने की क्षमता यदि चार गुना तेजी से बढ़ जाती है तो ये माना जाएगा कि वैक्सीन कारगर है।

पीजीआई रोहतक के अलावा देश की इन जगहों पर होंगे दवा के ट्रायल

बायोटेक कंपनी की वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल के लिए नई दिल्ली व पटना एम्स, पीजीआई रोहतक, यूपी के गोरखपुर में राणा अस्पताल, कानपुर में प्रखर अस्पताल, महाराष्ट्र के नागपुर में गिल्लुकर मल्टीस्पेशिएलिटी अस्पताल, गोवा में राधेकर अस्पताल, ओडिशा में एसयूएम अस्पताल, विशाखापट्टनम में किंग जार्ज अस्पताल, कर्नाटक के बेलगाम में जीवन रेखा अस्पताल, चेन्नई में एसआरएम अस्पताल, हैदराबाद में निम्स अस्पताल का चयन किया गया है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।