हरियाणा में कोरोना की मारः कर्फ्यू नहीं लगाएगी सरकार, लेकिन सख्ती बरतेगी

0
1
Corona hit in Haryana Government will not impose curfew, but will strictly act

 शादियों में बारातियों की संख्या पर पाबंदी, किसानों को दिल्ली न जाने की अपील (Corona in Haryana)

  •  हरियाणा में एक करोड़ मास्क बांटेगी सरकारः सीएम

चंडीगढ़ (अनिल कक्कड़)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मुख्यमंत्रियों की बैठक के बाद हरियाणा सरकार (Corona in Haryana) ने कोरोना के मद्देनजर बड़े कदम उठाते हुए सख्ती बरतने की झलक दिखा दी है। हालांकि प्रदेश में लाकडाउन नहीं लगाने की बात पर कायम सीएम मनोहर लाल ने बताया कि सरकार ने एक साथ एक जगह पर 200 लोगों के इकट्ठा होने की अनुमति वापस ले ली है।

पीएम से मुलाकात के बाद सीएम खट्टर ने की पत्रकार वार्ता

एनसीआर यानि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे छह जिलों गुरुग्राम, फरीदाबाद, सोनीपत, रोहतक, पलवल और नूंह में किसी भी समारोह या कार्यक्रम में हाल में 50 से ज्यादा लोग इकट्ठा नहीं हो सकते। खुले में इन जिलों में 100 लोग किसी कार्यक्रम में शामिल हो सकते हैं। राज्य के बाकी बचे 16 जिलों में हाल में 100 लोग और खुले में 200 लोगों के कार्यक्रम में शामिल होने की अनुमति होगी। पीएम से मुलाकात के बाद सीएम खट्टर पत्रकारवार्ता कर रहे थे।

मनोहरलाल ने कहा कि प्रदेश में नाइट कर्फ्यू लगाने का भी कोई फायदा नहीं है, क्योंकि लोग रात में ज्यादा इकट्ठा नहीं होते हैं। भीड़ दिन में होती है। इसलिए लोगों को लाकडाउन चाहिये या दो गज की दूरी, यह स्वयं तय करना होगा। हालांकि सरकार का लाकडाउन लगाने का कोई इरादा नहीं है। उन्होंने कहा कि कोरोना से बचाव के लिए प्रदेश सरकार हाईवे और बार्डर पर सख्ती बरतेगी। लोगों को यदि किसी तरह की दिक्कत आती है तो उन्हें इससे बचने के लिए स्वयं ही जागरूक बनना पड़ेगा।

वहीं पीएम मोदी से हुई मीटिंग में सीएम मनोहर लाल ने जानकारी दी कि हरियाणा सरकार अपने राज्य में करीब एक करोड़ मास्क बंटवाने जा रही है। मास्क का आर्डर दिया जा चुका है। हर व्यक्ति के लिए मास्क पहनना अनिवार्य है। हालांकि सरकार मास्क नहीं पहनने वालों पर दो हजार रुपये जुर्माना कर सकती है, लेकिन सरकार की मंशा जुर्माना लगाकर लोगों को सचेत करने की बजाय उन्हें जागरूक बनाने पर है, ताकि वह स्वयं आगे बढ़कर सहयोग कर सकें। मास्क नहीं पहनने वालों के चालान काटे गए। उनसे करीब 25 करोड़ रुपये की राशि आई, लेकिन चालान काटकर धन इकट्ठा करना हमारा मकसद नहीं है। हम लोगों को जागरूक करना चाहते हैं।

छह जिलों में 50 अन्य में 100 लोग ही हो सकेंगे इकट्ठा

बता दें कि अभी तक राज्य के हर जिले में 200 आदमी एक साथ इकट्ठा हो सकते थे। हरियाणा में कोरोना के हर रोज करीब दो हजार केस आ रहे हैं। इससे सरकार खासी चिंतित है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने मीडिया कर्मियों से बातचीत के दौरान सरकार के इस नए फैसले की जानकारी दी है। राज्य में कल से शादियां शुरू होने वाली हैं। शादियों में कोरोना बम फूटने की आशंका से इन्कार नहीं किया जा सकता था, लेकिन अब भीड़ की संख्या कम कर दिए जाने के बाद राहत मिल सकती है, हालांकि जिन परिवारों में शादियां हैं और जिन्होंने 200 लोगों को बुलाने की मंशा से कार्ड बांट रखे हैं, उन्हें आर्थिक व पारिवारिक हर तरह की दिक्कत आ सकती है।

सबसे पहले मिलेगी स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन

मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने बताया कि पूरे देश में कोरोना वैक्सीन के ट्रायल का तीसरा चरण चल रहा है। सबसे पहले स्वास्थ्य कर्मियों को कोरोना वैक्सीन दी जाएगी, क्योंकि वह सबसे ज्यादा रिस्क जोन में हैं। उन्हें लोगों के स्वास्थ्य की चिंता है और वह उनके हित में तथा उन्हें स्वस्थ बनाए रखने के लिए काम कर रहे हैं। मनोहर लाल ने स्पष्ट किया कि इसके बाद लोगों को उनकी आयु के हिसाब से दवाई मिलेगी। हर आदमी तक कोरोना वैक्सीन पहुंचे, प्रदेश सरकार इसका खाका तैयार करने में लगी है।

किसानों के दिल्ली चलो आंदोलन के लिए सरकार ने उठाए एहतियातन कदम, शंभू बाॅर्डर पर हरियाणा पुलिस चैकस

कृषि सुधार कानूनों को लेकर विभिन्न किसान संगठनों द्वारा 26 नवंबर को दिये गये दिल्ली चलो आह्वान के दृष्टिगत हरियाणा सरकार ने हर प्रकार की स्थिति से निपटने के लिए एहतियात के तौर पर सभी आवश्यक कदम उठाने का निर्णय लिया है। हरियाणा के मुख्य सचिव विजय वर्धन आज ‘प्रस्तावित राष्ट्रव्यापी दिल्ली चलो’ कॉल के दौरान कानून और व्यवस्था बनाए रखने के संबंध में मंडलायुक्तों, अम्बाला, सिरसा, फतेहाबाद, जींद, कैथल, कुरुक्षेत्र और पंचकूला के जिला उपायुक्तों एवं जिला पुलिस अधीक्षकों के साथ से हुई समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।

मुख्य सचिव ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि कानून एवं व्यवस्था बनाये रखने के लिए पुलिस विभाग को सभी आवश्यक कदम उठाने होंगे और सूचनाओं का आदान-प्रदान बेहतर ढंग से करना होगा ताकि किसी प्रकार की अप्रिय घटना को रोका जा सके। इसी प्रकार, पीने के पानी, मेडिकल किट, बिजली, टेंट व अन्य सभी मूलभूत सुविधाओं का वैकल्पिक प्रबंध करना होगा।

उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग द्वारा जिलों से समन्वय स्थापित करने के लिए कंट्रोल रूम बनाये जाएं। उन्होंने कहा कि जिला उपायुक्तों तथा पुलिस अधीक्षकों द्वारा मंडलायुक्तों एवं रेंज पुलिस महानिरीक्षकों के साथ समन्वय स्थापित करने एवं मिनिट-टू-मिनिट जानकारी गृह सचिव, पुलिस महानिदेशक तथा मुख्य सचिव कार्यालय में दी जाए। उन्होंने कहा कि पंजाब से ज्यादा किसानों के दिल्ली जाने की संभावना है ऐसे में शंभु बार्डर पर विशेष निगरानी रखनी होगी। इसके अलावा घरौंडा, मुंढाल जहां पर अधिक किसानों के एकत्रित होने की संभावना है वहां अतिरिक्त पुलिस बल लगाया जाये। उन्होंने अन्य राज्यों से हरियाणा में आ रहे राजमार्गों पर बहुपरतीय बैरिकेटिंग करने के भी निर्देश दिये।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।