फटाफट न्यूज़
   बड़ी बहन के साथ बीजेपी में शामिल हुईं साइना नेहवाल l   शेयर बाजार की बढ़त के साथ शुरुआत, सेंसेक्‍स 41,100 अंक के पार l   चीन में कोरोना वायरस से अब तक 132 लोगों की मौत, सामने आए 25 और नए केस l   आर्थिक सुस्ती पर राहुल गांधी ने साधा मोदी सरकार पर निशाना l   केरल: CAA के खिलाफ राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने पढ़ा सरकार का विचार, जताई असहमति l
देश

अबोहर : संस्थाओं द्वारा मृत व घायल गायों की निरंतर की जा रही संभाल

humanity

डॉ.गुरमुख कंबोज इन्सां पत्रेवाला ने इंसानियत का धर्म निभाते हुए उन्होंने घायल गायों को दौलतपूरा की गौ चिकित्सालय में भिजवाया। मृतक गाय को वरिंदर सिंह खालसा की टीम के सहयोग से दफनाया गया।

भयंकर सर्दी में बेसहारा मवेशी हो रहे मौत का शिकार | Humanity

अबोहर(सचकहूँ-सुधीर अरोड़ा)। जीव प्रेमियों द्वारा पड़ रही भीषण सर्दी के बीच बेसहारा बेजुबानों की सार लेने की सेवा निरन्तर की जा रही है परंतु निर्दत्यापूर्वक अज्ञात लोगों द्वारा गोवंश की सड़क के बीच फेंककर हत्या किये जाने पर भारी रोष भी प्रकट कर रहे हैं। जानकारी के अनुसार अबोहर से किलियांवाली सड़क मार्ग के मध्य इंट उद्योग के पास गत दिवस 2 गाय सर्दी में बीमार हुई हालत में पड़ी थी। वहीं पास 2 मृत गाय पड़ी थी। लोगों का इस सड़क मार्ग पर आना जाना लगा रहता है परंतु किसी द्वारा मृत या गंभीर अवस्था में बीमार पड़ी गायों की सार नहीं ली

डॉ.गुरमुख कंबोज इन्सां पत्रेवाला ने देखकर एक बार तो आश्चर्य किया परन्तु (Humanity) इंसानियत का धर्म निभाते हुए उन्होंने घायल गायों को दौलतपूरा की गौ चिकित्सालय में भिजवाया और मृतक गाय को वरिंदर सिंह खालसा की टीम के सहयोग से दफनाया गया। ताकि मृतक गाय के शरीर की बेअदबी न हो और पर्यावरण के भी खराब होने से बचाव रहे।

मृत गायों को दफनाकर निभाया इंसानियत का फर्ज | Humanity

उल्लेखनीय यह भी है कि 29 दिसम्बर को भी इन्ही समाजसेवकों पशु प्रेमियों द्वारा इसी सड़क मार्ग पर हिंदुमलकोट रोड़ पर किसी अज्ञात वाहन चालकों द्वारा बड़ी निर्दत्यापूर्वक गिराई 4 गायों में से 2 गंभीर घायल हुई। गायों को चिकित्सालय पहुंचाया जबकि 2 मृतक गायों को सड़क किनारे गड्डा खोदकर दफनाकर इंसानियत का फर्ज निभाया गया था। इस तरह हुए कृत्य के लिए अज्ञात लोगों के खिलाफ भारी रोष भी प्रकट किया जा रहा है। वहीं लोगों द्वारा सड़क किनारे इस तरह पड़े बेसहारा पशुओं के लिए हमदर्दी नहीं जताने पर अफसोस जाहिर किया गया।

क्योंकि आजकल इंसान इतना अपने निजी कार्यो या फिजूल में ध्यान लगा रहा परन्तु वे इंसानियत के धर्म को जानबूझकर भूल बैठे हैं। इसी तरह एक अन्य बेसहारा नील गाय गांव पत्रेवाला के किसी किसान के खेत में आवारा कुत्तों के नोंचे जाने से मृतक मिलने पर सबंधित अधिकारियों को सूचित कर दफनाने की सेवाएं दी गई। उपरोक्त पूरे प्रकरण में अलग-अलग सेवाओं में भूमिका प्रदान करने सुनील कुमार, डॉ. गुरमुख कम्बोज इन्सां, राकेश सिंह,रिकी,मनप्रीत आदि का सराहनीय सहयोग रहा।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top