कोरोना संक्रमण फैलाने की साजिश, सड़क किनारे मिले पीपीई किटों के ढेर

0
Conspiracy to spread corona infection, heaps of PPE kits found on roadside
भवानीगढ़/संगरूर (सच कहूँ/गुरप्रीत सिंह)। गांव नदामपुर के रास्ते पर सड़क व नहर के किनारे तीन जगहों पर इस्तेमाल की गई पीपीई किटों के ढेर को फेंककर अज्ञात व्यक्ति फरार हो गए। बुधवार सुबह राहगीरों में पीपीई किटें देखकर दहशत फैल गई। इसकी सूचना पुलिस को दी तो स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर रास्ते को दोनों तरफ से सील कर दिया। लोगों ने इसे जहां प्रशासन की लापरवाही करार दिए, वहीं इस्तेमाल की गई पीपीई किटें यहां पर डालने वालों पर सख्त कार्रवाई की मांग की। राहगीरों ने कहा कि किसी स्वास्थ्य केंद्र के कर्मचारियों ने यह काम किया है। प्राथमिक जांच में यह स्पष्ट हो चुका है कि यह उपयोग हो चुकी हैं। इसकी जांच आरंभ कर दी गई।
गांव नदामपुर के ब्लॉक समिति सदस्य राधे श्याम ने बताया कि बुधवार सुबह राहगीरों ने नदामपुर मेन रोड़ के किनारे सैकड़ों की गिनती में पीपीई किटों के ढेर लगे थे। इसकी भनक लगते ही वह भी मौके पर पहुंचे व पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने स्वास्थ्य विभाग की टीम व प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी तुरंत मौके पर पहुंची। प्रदूषण बोर्ड के अधिकारी सिमरप्रीत सिंह ने कहा कि इस प्रकार इस्तेमाल की गई किटों को खुले में फेंकना बेहद खतरनाक है। अगर कोई व्यक्ति या बेजुबान जानवर इन्हें छू लेता तो कोरोना का वायरस आगे फैलने का डर भी है। उसे मेडिकल बायोवेस्ट उठाने वाली कंपनी की टीम को बुलाकर यह पीपीई किटें सड़क से हटवाई है। गत रात्रि किसी ने यहां पर यह पीपीई किटें फेंकी है। आसपास के रास्तों पर लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली जाएगी, ताकि पीपीई किटें फेकने वालों को काबू किया जा सके।

अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज:

सीनियर मेडिकल अफसर भवानीगढ़ डॉ. प्रवीण गर्ग ने कहा कि यह बेहद ही गंभीर मामला है। इस्तेमाल की गई पीपीई किटों को रास्ते में फेंकने से इनफेक्शन फैलने का खतरा है। इस संबंधी पुलिस ने जांच आरंभ कर दी है। अनुमान है कि किसी ने रात के समय यह किटें यहां पर फेंकी है। ब्लॉक समिति सदस्य राधे श्याम ने कहा कि मुख्य मार्ग होने के बावजूद इस प्रकार की वारदात को अंजाम देकर अज्ञात व्यक्तियों ने कोरोना के खतरे को बढ़ाने की कोशिश की है। इस्तेमाल की गई पीपीई किटों से कोरोना का संक्रमण फैलने का डर है। इसे अंजाम देने वाले व्यक्ति यदि इसे नहर में फेंकते तो इससे बड़ा नुकसान भी हो सकता था। उन्होंने मांग की कि मामले की जांच करके जल्द से जल्द आरोपितों को काबू किया जाए। उधर पुलिस ने एसएमओ की शिकायत पर अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज कर पड़ताल आरंभ कर दी।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।