Rain: बारिश से फिर बढ़ी ठिठुरन, भटिंडा में ओलावृष्टि

0
Cold again due to rain

मौसम ने ली करवट: प्रदेश के अधिकतर जिलों में दिनभर होती रही रूक-रूककर बारिश, तापमान में गिरावट (Cold again due to rain)

चंडीगढ़/जालंधर(सच कहूँ न्यूज)। मौसम विभाग की भविष्यवाणी के अनुसार ही होली के बाद से पंजाब में मौसम खराब हो गया है। शनिवार सुबह जालंधर, लुधियाना सहित पंजाब के कई जिलों में आसमान में बादल छाए रहे और रुक-रुक कर बारिश हो रही है। उधर, बठिंडा में तेज बारिश के साथ ओलावृष्टि हुई। जालंधर में पिछले तीन दिन से लगातार रुक-रुक कर बारिश का दौर जारी है। यहां सुबह करीब 9.45 बजे थोड़ी देर के लिए जोरदार बारिश हुई है। उसके बाद से हल्की बूंदाबादी जारी है। न्यूनतम तापमान लुढ़ककर 11 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। बारिश के कारण हवा में ठिठुरन बढ़ गई है।

  • सड़कों पर लोग नए सिरे से गर्म कपड़ों में लिपटे नजर आए।
  • लगातार बारिश ने किसानों की चिंता भी बढ़ा दी है क्योंकि इस समय खेतों में गेहूं की फसल खड़ी है।
  • होली से पहले हुई बारिश के कारण पहले ही कई स्थानों पर फसल बिछ गई थी।
  • खन्ना में सुबह जोरदार बारिश हुई।
  • सड़कों पर पानी भरने के कारण वाहन चालकों को आने-जाने में भारी परेशानी उठानी पड़ रही है।
  • फरीदकोट में भी सुबह से आसमान में बादल छाए रहे।
  • यहां अधिकतम तापमान 21 डिग्री और न्यूनतम तापमान 11 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है।

बेमौसम बारिश ने किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें खींच दी हैं

पटियाला में बूंदाबांदी: पटियाला में रात से ही बरसात हो रही है। यहां सुबह 8 बजे से हल्की बारिश हो रही है। बारिश के कारण शहर के कई स्थानों पर जलभराव भी हो गया है।
फाजिल्का में तेज हवाओं के साथ बारिश: फाजिल्का में पिछले करीब 3 दिन से शुरू हुआ बारिश का सिलसिला शनिवार को भी नहीं रुका। पहले शनिवार सुबह से लेकर दोपहर 12 बजे तक धूप छाई रही। इसके बाद मौसम ने फिर से करवट ली और तेज हवाओं के साथ बारिश शुरू हो गई। बेमौसम बारिश ने किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें खींच दी हैं।

बोर्ड एग्जाम के लिए जाने वाले स्टूडेंट्स को हुई परेशानी

सबसे अधिक परेशानी उन स्कूली बच्चों को हुई जिनके आज से बोर्ड एग्जाम शुरू हुए हैं। ऐसे में अभिभावकों को दोहरी परेशानी झेलनी पड़ी। एक तो बारिश के बीच परीक्षा केंद्र का सफर तय करना व दूसरा शहर की सड़कों पर पड़े गड्ढे तथा उनमें भरे बारिश के पानी के बीच से गुजरना किसी चुनौती से कम न था। हालांकि मौसम विभाग ने अपने पूवार्नुमान में ही शनिवार को बारिश की संभावना जताई थी। अभी तक जिले में अधिकतम 19 तथा न्यूनतम 11 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया है।

बिजली सप्लाई ठप, दो घर गिरे

कई स्थानों पर गरीबों के मकान व बिजली वाले खंभों को भी नुकसान पहुंचा है। माछीवाड़ा से रोपड़ रोड पर स्थित कई स्थानों पर बिजली बोर्ड के खंभे व ट्रांसफार्मर क्षतिग्रस्त होने से संबंधित गांवों में बिजली सप्लाई ठप है। इसके अलावा शेरपुर बेट व फतेहगढ़ बेट में गरीब परिवारों के दो मकान भी गिरे। मगर कोई जानी नुकसान होने से बचाव रहा।

प्याज की पनीरी सहित सब्जियां व गेहूँ बर्बाद

समराला में भी बारिश सहित ओलावृष्टि होने से जहां किसानों की फसलों को नुकसान पहुंचा है, वहीं सब्जियों, प्याज की पनीरी और इसके अलावा बागों में लगे फल भी नष्ट हो गए। इससे किसान मायूस हैं, क्योंकि एक माह बाद ही गेहूं मंडी में बिकने के लिए पहुंचनी थी। मगर, भारी ओलावृष्टि के कारण उनकी उम्मीदों पर पानी फिर गया है। शहर के इनकम टैक्स वकील नरेश अग्रवाल जो खेती भी करते हैं, ने बताया कि ओलावृष्टि के कारण प्याज, धनिया और अन्य सब्जियों सहित फल वाले पौधों में लगा बूर भी खत्म हो गया है।

ओलावृष्टि के कारण खेतों में शुक्रवार दोपहर तक ओलों के ढेर दिखाई दे रहे थे।

किसान चरनजीत सिंह भगवानपुरा का कहना है कि उनकी एक एकड़ में प्याज की पनीरी सहित भारी मात्र मे सब्जियां और गेहूं बर्बाद हो गई। ओलावृष्टि ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। पनीरी सहित सब्जियों और गेहूं के लिए काफी पैसा लगाया गया था, जो बर्बाद हो गया।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।