ओलंपिक में चिंकी का स्वर्ण रहेगा लक्ष्य: मेहताब

0
Chinki's gold will be a goal in Olympics: Mehtab

भोपाल (एजेंसी)। दोहा में 14वीं एशियाई निशानेबाजी चैंपिनयशिप में महिलाओं की 25 मीटर पिस्टल स्पर्धा में बेहतर प्रदर्शन के जरिए टोक्यो ओलंपिक 2020 के लिए कोटा दिलाने वाली भोपाल की युवा निशानेबाज चिंकी यादव के पिता मेहताब को पूरी उम्मीद है कि उनकी पुत्री ओलंपिक में देश के लिए स्वर्ण पदक लाएगी। मध्य-प्रदेश राज्य शूटिंग अकादमी की 21 वर्षीय चिंकी यादव के पिता मेहताब यादव ने यहां बताया कि चिंकी का दोहा के बाद अब पूरा जोर ओलंपिक में स्वर्ण पदक लाने पर रहेगा। इसके लिए वह पहले से ही प्रयास कर रही है। इसी तरह का विश्वास चिंकी की मां श्रीमती कृष्णा यादव को भी है।

हालाकि अभी वे दोनों चिंकी के दोहा से लौटने का इंतजार कर रहे हैं। अपनी पुत्री की उपलब्धियों का सहज भाव से बखान करने वाले चिंकी के माता पिता उसकी दोहा में हासिल नई उपलब्धि पर भी अत्यंत प्रसन्न हैं। उनका मानना है कि जिस तरह से वह अपने प्रदर्शन में लगातार निखार लाती जा रही है, उससे उन्हें पूरा विश्वास है कि चिंकी ओलंपिक खेलों में देश के लिए स्वर्ण पदक अवश्य लाएगी।

कम तेल वाला भोजन पंसद

सामान्य मध्यवर्गीय परिवार से आने वाली चिंकी के खानपान और रुचियों के बारे में पूछे जाने पर मां कृष्णा यादव ने कहा कि उसका ध्यान अपने खेल पर ही केंद्रित रहता है। भोजन में वह कम तेल वाला सामान्य भोजन ही पसंद करती है। पिता का कहना है कि वह मूल रुप से खंडवा जिले के निवासी हैं, लेकिन पिछले लगभग ढाई दशक से भोपाल में ही निवास कर रहे हैं। 47 वर्षीय मेहताब यहां टीटीनगर स्टेडियम परिसर में स्थित आवास में निवास करते हैं।

2012 में शुरु हुआ सफर

राज्य के खेल विभाग में ही इलेक्ट्रिशियन के रुप में कार्य करने वाले मेहताब ने बताया कि वर्ष 2012 में चिंकी को यहां राज्य शूटिंग अकादमी में प्रवेश मिला था। इसके बाद उसने काफी परिश्रम किया और फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा। इस दौरान उसने राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर अनेक पदक हासिल किए। इसके बाद उसने अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में हाथ आजमाए और उसे वहां भी सफलता मिली। यादव ने बताया कि चिंकी के अलावा उनका एक पुत्र राजेश (19) है और वह भी शूटिंग में हाथ आजमा रहा है। वह शॉटगन (12 बोर) में राष्ट्रीय स्तर तक जा चुका है। चिंकी और राजेश दोनों ही अब कॉलेज के विद्यार्थी हैं, हालाकि दोनों ही अपना भविष्य निशानेबाजी में लगाना चाहते हैं। चिंकी ने अब तक अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में देश को तीन स्वर्ण, दो रजत और पांच कांस्य पदक दिलाए हैं। चिंकी ने राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में छह स्वर्ण, सात रजत और नौ कांस्य पदक हासिल किए हैं। चिंकी मध्य-प्रदेश राज्य शूटिंग अकादमी के मुख्य प्रशिक्षक जसपाल राणा और सहायक प्रशिक्षक जयवर्धन सिंह चौहान से प्रशिक्षण हासिल कर रही है।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करे।