कोरोना को चीनी विषाणु कहे पर चीन ने जतायी कड़ी आपत्ति

0
Coronavirus

नई दिल्ली (एजेंसी)। चीन ने कोरोना वायरस ‘कोविड-19’ विषाणु को ‘चीनी विषाणु’ पुकारे जाने पर कड़ी आपत्ति व्यक्त की है और कहा है कि ऐसे बयान तथ्यों और सच से ध्यान भटकाने के लिए दिये जा रहे हैं तथा इससे इस महामारी को नियंत्रित करने में कोई मदद नहीं मिलेगी। भारत में चीन के दूतावास की प्रवक्ता जी रोंग ने यहां संवाददाताओं से कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) का स्पष्ट मत है कि किसी भी विषाणु को किसी क्षेत्र, देश या समुदाय विशेष से जोड़ कर निरुपित करना गलत है। उन्होंने कहा, ‘ये तर्क तथ्यों की अनदेखी करते हैं और सही एवं गलत के बीच भ्रम पैदा करते हैं। ये तर्क गैरजिम्मेदाराना है और इस महामारी को नियंत्रित करने में अंतरराष्ट्रीय सहयोग में मदद नहीं करते हैं। हम ऐसे तर्कों का कड़ा विरोध करते हैं।

चीन को इस पूरे संकट के लिए जिम्मेदार ठहरा रहे

चीनी दूतावास की प्रवक्ता से सवाल पूछा गया था कि कुछ लोगों का मानना है कि यह विषाणु चीन से आया है और वे उसे चीनी विषाणु कहते हैं और चीन पर सूचनाओं को साझा करने में देर करने एवं पारदर्शिता के अभाव का आरोप लगाते हैं। इस प्रकार से वे चीन को इस पूरे संकट के लिए जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। सुश्री जी रोंग ने कहा कि यह सही है कि कोरोना विषाणु सबसे पहले वुहान में प्रकाश में आया लेकिन उसके उद्गम के बारे में वैज्ञानिक किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचे हैं। इस बारे में वैज्ञानिक एवं तकनीकी आकलन से ही सच्चाई का पता चल सकता है।

अभी तक अमेरिका, यूरोप, चीन, जापान और डब्ल्यूएचओ के वैज्ञानिकों के अनुसंधान से कोरोना विषाणु के उद्भव के बारे में कोई प्रामाणिक बात सामने नहीं है। उन्होंने कहा कि ऐसे कोई प्रमाण नहीं है कि चीन इस विषाणु का स्रोत है। चीन के लोग भी इस विषाणु के शिकार हुए हैं।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।