लाटरी निकलने का झांसा देकर 1 लाख 12 हजार 100 रुपये ठगे

0
Cheated 1 lakh 12 thousand 100 by the fraud of lottery

पानीपत। दुनिया भर में मशहूर चल रहे कौन बनेगा करोड़पति प्रोग्राम को देखा ही होगा, जो परिचित न हो। इस शो के नाम से भी ठगी की जा रही है। पानीपत में ऐसा वाकया सामने आया है। ठग ने खुद को स्टेट बैंक आफ इंडिया मेरठ का सहायक प्रबंधक बताकर बत्रा कालोनी के मजदूर की बेटी को वाट्सएप पर काल कर कौन बनेगा करोड़पति लक्की ड्रा में  25 लाख रुपये की (Fraud of lottery) लाटरी निकलने का झांसा देकर 1 लाख 12 हजार 100 रुपये ठग लिए। पीड़ित तीन महीने तक थाना माडल टाउन के चक्कर लगाती रही। सीएम विंडो पर शिकायत देने पर मामला दर्ज किया गया।

कौन बनेगा करोड़पति लक्की ड्रा में 25 लाख रुपये की लाटरी निकलने का झांसा दिया

बत्रा कालोनी में किराये पर रहने वाले विनोद कुमार की पत्नी सीता ने सीएम विंडो में शिकायत दी कि वह और उनके पति फैक्ट्री में काम करते हैं। उनके तीन बेटे और एक बेटी है। बेटी काजल (15) 9वीं कक्षा में पढ़ती है। 16 जुलाई को काजल के मोबाइल फोन पर काल आई। बोला कि मेरठ के भोला रोड स्थित स्टेट बैंक आफ इंडिया का सहायक प्रबंधक अरुण वर्मा बोल रहा है। आपकी कौन बनेगा करोड़पति में 25 लाख रुपये की लाटरी लगी है। बैंक खाते में पेमेंट डलवानी है। खाता की जानकारी भेज दें। विश्वास दिलाने के लिए आरोपी ने अपना आधार कार्ड और नौकरी के कुछ कागज भेजे।

आरोपी ने कहा कि लॉटरी के रुपये लेने के लिए उन्हें अन्य खर्च के रूप में एक लाख रुपये देने होंगे और यह रकम तीन दिन में जमा करानी है। सीता का पति एक फैक्ट्री में काम करता है। पति ने मालिक से कुछ रुपये, कुछ रिश्तेदारों और बाकी ब्याज पर लेकर इंतजाम किया। आरोपी ने उनकी बेटी का बैंक खाता नंबर मांगा। इसके बाद कई बार में मनी ट्रांसफर के जरिये कुल 112100 रुपये जमा करा लिये। आरोपी ने इसके बाद 17000 रुपये और जमा कराने को कहा। पीड़ित ने पहले ही एक लाख से ज्यादा जमा कराने की बात कही तो आरोपी बोला कि वह नई कार लेकर उनके घर आ रहे हैं और 9000 रुपये की मांग की। रुपये देने से मना करने पर आरोपी ने लॉटरी कैंसिल करने की धमकी दी। रुपये वापस मांगने पर उन्हें जान से मारने का डर दिखाया।

पुलिस ने नहीं की मदद

सीता ने बताया कि ठगी होने के बाद वह मॉडल टाउन थाना पुलिस के पास शिकायत लेकर पहुंची, लेकिन उसकी नहीं सुनी। रढ को शिकायत के बाद पुलिस ने उसे केवल चक्कर कटाए। केस को साइबर सेल को भी ट्रांसफर नहीं किया गया। अब पीड़िता ने मामले की शिकायत सीएम विंडो पर की तो मॉडल टाउन पुलिस ने केस दर्ज किया है।

मेरठ के आकाश का है आधार कार्ड

ठग ने जो आधार कार्ड पीड़ित परिवार को वाट्सएप किया वह आकाश वर्मा का है। इस आधार कार्ड पर मेरठ के मुल्ताननगर का पता लिखा हुआ है। पीड़ित ने आधार कार्ड के साथ ठग का मोबाइल नंबर और जमा की गई रकम की रसीद भी उपलब्ध कराई है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।