CBSE की सख्ती: 75 फीसदी से क​म उपस्थिति पर नहीं दे सकेंगे बोर्ड परीक्षा

0
CBSE, PM Care Fund

बिना कारण स्कूल से छुट्टी करने वाले छात्रों के लिए बुरी खबर |CBSE

Edited By Vijay Sharma

जयपुर(एजेंसी)। बिना कारण स्कूल से छुट्टी करने वाले छात्रों के लिए बुरी खबर है। सीबीएसई (CBSE) ने ऐसे छात्रों पर कड़ा एक्शन लेते हुए ये आदेश जारी किए है यदि किसी छात्र की कक्षा में हाजरी 75 प्रतिशत से कम है तो वह परीक्षा नहीं सकेगा। ऐसे में उसका पूरा साल बर्बाद होना स्वाभिवक है। सीबीएसई ने ये फैसला कक्षा में छात्रों की उपस्थित बढ़ाने के लिए लिया है।

10वीं और 12वीं कक्षा की परीक्षा में बैठने के लिए विद्यार्थियों की उपस्थिति 75 प्रतिशत होना जरूरी होगी।  सीबीएसई ने सभी स्कूलों को निर्देश दिया है कि वे 10वीं और 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा में उपस्थित होने वाले सभी विद्यार्थियों की उपस्थिति की एक जनवरी, 2020 तक करें। 1 जनवरी 2020 तक जिन विद्यार्थियों की उपस्थिति 75 फीसदी होगी वही परीक्षा में बैठ सकेंगे।

15 फरवरी से शुरू होने वाली हैं परीक्षा |

CBSE

  • जिन विद्यार्थियों की उपस्थिति 75 प्रतिशत से कम होगी।
  • उन्हें सीबीएसई द्वारा दिए गए नियम के अनुसार परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं दी जाएगी।
  • सीबीएसई की परीक्षा 15 फरवरी से शुरू होने वाली हैं ।
  • प्रवेश पत्र सिर्फ उन विद्यार्थियों को दिया जाएगा, जो उपस्थिति पूरी करेंगे।
  • कम उपस्थिति वाले विद्यार्थियों को उनके क्षेत्रीय कार्यालय में जाना होगा ।
  • उन पर निर्णय सात फरवरी या उससे पहले लिया जाएगा।
  • निर्णय उनकी परिस्थिति के अनुसार होगा।

सात फरवरी तक छुट्टियों का उचित कारण बता सकते हैं छात्र

सीबीएसई द्वारा जारी आदेश में छात्रों को तोड़ी राहत देते हुए ये भी कहा गया है कि यदि किसी विद्यार्थी की उपस्थिति की कमी के पीछे यदि कोई उचित कारण होगा तो उसे सात फरवरी तक अधिकारियों के पास जरूरी दस्तावेज जमा कराने होंगे। किसी भी मामले में तय समय सीमा के बाद कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी। बीमारी मे मेडिकल बोर्ड का प्रमाण पत्र चाहिए तो किसी परिवारजन की मृत्यु होने पर भी प्रमाण पत्र देना होगा।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।