मनोहर लाल इन्सां की हत्या का मामला: दूसरे दिन भी ठंड में धरने पर बैठी रही साध-संगत, प्रशासन के साथ बैठक रही विफल

0
Case of murder of Manohar Lal Insan Sadh Sangat sitting on dharna for the second day, meeting with administration failed

दोषियों की गिरफ्तारी तक जारी रहेगा शांतिमय धरना (Murder Case)

सच कहूँ/ सुरेन्द्रपाल बठिंडा/सलाबतपुरा। बठिंडा जिला के कस्बा भगता भाईका में डेरा श्रद्धालु मनोहर लाल इन्सां (Murder case) हत्या मामले में साध-संगत द्वारा उनकी मृतक देह सहित बरनाला-बाजाखाना सड़क पर रविवार को धरना दूसरे दिन भी जारी रहा। शनिवार रात से ही साध-संगत ठंड में धरने पर डटी रही। दूसरे दिन के धरने में साध-संगत का इक्ट्ठा दोगुना हो गया। साध-संगत के रोष का ही परिणाम है कि हर आयु वर्ग के डेरा श्रद्धालु धरने में शामिल हुए।

पुलिस प्रशासन ने जिम्मेवार सेवादारों के साथ विचार-विमर्श किया लेकिन कोई निष्कर्ष नहीं निकल सका। धरने पर बैठी साध-संगत में भारी रोष देखा गया और उनका कहना है कि सीसीटीवी कैमरों में हमलावरों की तस्वीरें कैद होने के बावजूद पुलिस दोषियों को पकड़ने में नाकाम साबित हो रही है। साध-संगत ने जिम्मेवारों की उपस्थिति में दोहराया कि वे इंसाफ मिलने तक धरने में डटे रहेंगे।

पीड़ित परिवार के साथ चट्टान की तरह खड़ी है साध-संगत: हरचरण इन्सां

रविवार को धरने में साध-संगत को संबोधित करते हुए 45 मैंबर हरचरण इन्सां ने कहा कि कितने दुख की बात है कि इन दिनों डेरा श्रद्धालुओं को डेंगू मरीजों की मदद के लिए ब्लॅड बैंकों में होना था, लेकिन वे इंसाफ की मांग को लेकर धरने पर बैठे हैं। अस्पतालों में थैलेसीमिया पीड़ित बच्चे व डेंगू पीड़ित लोग खून की कमी के कारण इलाज को तरस रहे हैं। इन्सां ने कहा कि यदि किसी की भलाई करना, जरूरतमंद को रक्तदान व वातवारण की शुद्धता के लिए पौधारोपण करना गलत है तो सरकार पूरी साध-संगत पर ही मामले दर्ज कर दे, यदि गलत नहीं तो फिर समाज की भलाई करने वालों को परेशान क्यों किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि पवित्र श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी की बेअदबी को डेरा सच्चा सौदा के साथ जोड़ा जा रहा है लेकिन ऐसा करना तो दूर डेरा श्रद्धालु बेअदबी करना सोच भी नहीं सकते। हरचरण सिंह ने कहा कि साध-संगत परिवार के साथ चट्टान की तरह खड़ी है और इंसाफ मिलने तक यहीं बैठी रहेगी।

डेरा श्रद्धालु की हत्या से साध-संगत में रोष

साध-संगत राजनैतिक विंग के मैंबर छिन्द्रपाल इन्सां ने कहा कि मनोहर लाल इन्सां एक नेक और शांत स्वभाव वाले व्यक्ति थे। उनके अच्छे व्यक्तित्व की पूरा क्षेत्र बातें करता है। उन्होंने कहा कि यहां मौजूद साध-संगत का इक्ट्ठ यह साबित करता है कि डेरा श्रद्धालु की हत्या से साध-संगत में कितना रोष है। उन्होंने सिविल व पुलिस प्रशासन से मांग की है कि इस घटना की गहराई से जांच कर दोषियों को जल्द गिरफ्तार किया जाए, फिर ही साध-संगत धरना समाप्त करेगी।45 मैंबर गुरचरन कौर इन्सां ने कहा कि यह एक साजिश के तहत निर्मित हत्याकांड है।

इस घटना से साध-संगत के हृदय को गहरी ठेस पहुंची है। इसके अलावा समाज के अन्य लोग भी इस घटना को लेकर रोष जता रहे हैं। उन्होंने मांग की है कि मनोहर लाल इन्सां के दोषियों को गिरफ्तार कर परिवार व डेरा सच्चा सौदा की समूह साध-संगत को इंसाफ दिया जाए, अन्यथा इसी प्रकार साध-संगत का धरना जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि डेरा सच्चा सौदा के श्रद्धालु तो मानवता भलाई के कार्यों के लिए जाने जाते हैं और यहां भी पूरे शांतिमय तरीके से धरने पर बैठे हैं।

गौरतलब है कि 20 नवंबर की शाम को भगता भाईका में अपनी दुकान में बैठे डेरा श्रद्धालु मनोहर लाल इन्सां की दो अज्ञात व्यक्तियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस मौके डेरा सच्चा सौदा के सीनियर वाइस चेयरमैन जगजीत सिंह इन्सां, साध-संगत राजनीतिक विंग के राम सिंह चेयरमैन, बलजिन्द्र सिंह बांडी, बलराज सिंह बाहो, रवि इन्सां, 45 मैंबर गुरसेवक सिंह इन्सां गोनियाना, संतोष इन्सां, जतिन्द्र महाशा, जसवीर इन्सां, अच्छर सिंह इन्सां, एडवोकेट बसंत सिंह इन्सां, एडवोकेट केवल बराड़ इन्सां, एडवोकेट सत्तपाल सिंह सैनी, यूथ 45 मैंबर बूटा सिंह इन्सां, गुरविन्द्र इन्सां के अलावा जोरा सिंह आदमपुरा व अजीत सिंह बिलासपुर इत्यादि उपस्थित थे।

गहराई से जांच जारी है: एसएसपी

एसएसपी भूपेन्द्रजीत सिंह विर्क ने पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए बताया कि उनकी जिम्मेवारों के साथ बातचीत हुई है। जो उन्होंने मांगें रखी हैं, उस संबंधी उच्च अधिकारियों को अवगत करवा दिया जाएगा। दोषियों की गिरफ्तारी संबंधी पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि वे पूरी गहराई से जांच में जुटे हुए हैं। मीटिंग दौरान अन्य कोई बातचीत होने संबंधी पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि वे पूरी बात मीडिया में नहीं बता सकते।

मीटिंग में बात आगे बढ़ी है लेकिन हल तक नहीं पहुंची: हरचरण इन्सां

45 मैंबर हरचरण इन्सां ने बताया कि रविवार को पुलिस व प्रशासन के साथ साकारात्मक महौल में बातचीत हुई है। एसएसपी ने बताया कि उन्होंने कई टीमें लगाई हुई हैं जिसमें साइबर क्राइम अलग तौर पर जांच कर रहा है। उन्होंने बताया कि एसएसपी ने मीटिंग में उपस्थित जिम्मेवारों से कुछ समय मांग की है, लेकिन उन्होंने कहा कि पहले भी ऐसे वायदे किए जाते रहे हैं, लेकिन पूरे नहीं हुए। हरचरण सिंह ने कहा कि फैसला केवल जिम्मेवारों के नहीं, बल्कि समूह साध-संगत के हाथ में है। जिम्मेवारों ने एसएसपी को इस बात से भी अवगत करवाया है कि सोशल मीडिया पर जो पोस्टें डाली जा रही हैं, उन्हें भी रोका जाए, ताकि समाज में हिंसक व दहशत का माहौल पैदा न हो। उन्होंने कहा कि पुलिस के साथ मीटिंग में बात आगे जरूर बढ़ी है, जो फिलहाल कोई हल तक नहीं पहुंची।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।