कोरोना काल में एम्बूलेंस वालों की लूट

0
Ambulance robbery

3 किलोमीटर के लिए थमा दिया 8000 रुपये का बिल (Ambulance Robbery)

सच कहूँ/मनदीप  पुणे। कोरोना वायरस में मरीजों को इलाज के लिए अस्पतालों की उगाही का शिकार होना पड़ रहा है। ऐसे में एम्बुलेंस वाले भी मरीजों को जमकर लूट रहे हैं। महाराष्ट्र के पुणे में एक मरीज को एम्बुलेंस से चेकअप के लिए ले जाया गया। 3 किलोमीटर दूर अस्पताल तक जाने के लिए उससे 7000 रुपये वसूले गए। बाबा सैय्यद ने बताया कि उन्हें कुछ चेकअप के करवाने के लिए अपने मरीजों को रतन हॉस्पिटल से एक दूसरी लैब ले जाना था। यह अस्पताल

सेनापति बापत रोड पर है और लैब कमला नेहरू पार्क के पास भंडारकर रोड पर स्थित है। दोनों के आने जाने की दूरी महज 3.5 किलोमीटर है। उन्हें 8000 रुपये का बिल दिया गया। काफी बहस के बाद एम्बुलेंस वालों ने 1000 रुपये कम करके उनसे 7000 रुपये की वसूली की।

पीपीई किट और सैनिटेशन रेट बढ़ने की सफाई

एम्बुलेंस वालों ने कहा कि उन लोगों से जुड़े डॉक्टरों को उन्हें कुछ भुगतान करना होता है। इसके अलावा पीपीई किट और सैनिटेशन में खर्च आता है। हालांकि इन सबके बाद भी उन्हें यह चार्ज बहुत ज्यादा लगे, लेकिन एम्बुलेंस वाले नहीं माने।

क्या कहते हैं एम्बुलेंस मालिक

यह एक केस नहीं है। पुणे में मरीजों और उनके परिजनों से इसी तरह वसूली कर रहे हैं। डिस्ट्रिक्ट एम्बुलेंस ओनर एसोसिएशन के सचिव गोपाल ने कहा कि एम्बुलेंस के रेट उसके साइज के आधार पर तय होते हैं। अभी कोविड मरीजों के लिए एम्बुलेंस 2500 रुपये से 3000 रुपये के बीच ले रही हैं। यह रेट इसलिए है क्योंकि पीपीई किट और सैनिटेशन में खर्च आता है। इससे पहले यह चार्ज 800 से 1000 रुपये होता था।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।