विदेश जा रहे हैं तो फर्जी एजेंसियों से सावधान

0
Beware, Fake, Agencies, Going Abroad

धोखाधड़ी। हरियाणा में आई विदेश भेजने वाली फर्जी एजेंसियों की बाढ़, लोगों को चूना लगा रहे कबूतरबाज

सच कहूँ/संजय मेहरा
गुरुग्राम। यदि आप भी विदेश जाने का प्लान बना रहे हैं तो सावधान हो जाइए क्योंकि इन दिनों विदेश भेजने के नाम पर फर्जी एजेंसियों की बाढ़ सी आ गई है। ये एजेंसियों लोगों से मोटी रकम ऐंठकर फरार हो जाती हैं। कुछ एजेंसियां लोगों को विदेश तो भेज देती हैं, लेकिन उन्हें वहां जाकर पता चलता है कि उनके साथ ठगी हो गई। गत दिनों ऐसा ही एक मामला सामने आया था और अब एक और मामला उजागर हो गया है। ऐसा ही एक मामला गुरुग्राम के पालम विहार थाना क्षेत्र का सामने आया है। जानकारी के अनुसार श्रवन देवी शहर के सेक्टर-21 डूंडाहेड़ा में रहती हैं। बताया जाता है कि उनका पति रक्षपाल नौकरी के सिलसिले में पालम विहार स्थित पेसिएबल फैकल्टी मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड एजेंसी के जरिए श्रीलंका गया था।

मोटी रकम ऐंठकर फरार हो जाते हैं एजेंट

इस एजेंसी का यहां पर कॉरपोरेट आॅफिस है, जबकि हेड आॅफिस दिल्ली में हैं। बताया जाता है कि श्रीलंका में रक्षपाल की पिछले साल अगस्त में मौत हो गई और उसके शरीर पर चोट के भी निशान थे। मौत की खबर होने के बाद मृतक के परिजनों ने विदेश मंत्रालय से संपर्क किया। परिजनों ने मंत्रालय से मृतक की भविष्य निधि के पैसे के लिए लिखित आवेदन किया। इस बाबत विदेश मंत्रालय की ओर से जांच कराई गई तो पता चला कि मृतक उक्त एजेंसी के मार्फत श्रीलंका गया था। जांच में यह भी पाया गया कि एजेंसी के पास लाइसेंस नहीं है और सरकार से मान्यता नहीं मिली है।

बाद में सिवाय पछतावे के कुछ नहीं लगता हाथ

इस तरह से रक्षपाल का पूरा मामला उलझ गया है। रक्षपाल की पत्नी की शिकायत पर पालम विहार थाना पुलिस ने एजेंसी के मालिक के खिलाफ संबंधित धाराओं में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। हालांकि इस मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। इस बारे में पालम विहार थाना प्रभारी विक्रम नेहरा का कहना है कि एजेंसी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। मामले की गहन जांच की जा रही है।

इस तरह ठगी करते हैं एजेंट

  • विदेश जाने वाले युवकों की एजेंट्स तलाश करते हैं।
  • जाल में फंसाकर सस्ते में पासपोर्ट, वीजा और ट्रेनिंग उपलब्ध कराने को कहते हैं।
  • कारपेंटर, वेल्डिंग, ड्राइविंग सहित अन्य चीजों की ट्रेनिंग के लिए फीस लेकर सर्टिफिकेट दे देते हैं।
  • सर्टिफिकेट मिलने पर बेरोजगारों का भरोसा बढ़ जाता है, उनसे पासपोर्ट और वीजा का पैसा वसूल लेते हैं।
  • हवाई जहाज का टिकट, वीजा लेकर मुंबई पहुंचने पर फजीर्वाड़े की जानकारी होती है,इसके लिए पीड़ित अपने रुपए वापस कराने को पुलिस का चक्कर काटते हैं।
  • कई बार विदेश पहुंचने पर दूसरी नौकरी देकर उत्पीड़न कराया जाता है,खाना-पीना, वेतन की प्रॉब्लम आने पर लोग किसी तरह लौटकर आते हैं।
  • कई केसेज में कामगारों को टूरिस्ट वीजा देकर विदेश भेज दिया गया है, इस वजह से उनको प्रॉब्लम उठानी पड़ती है।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।