बठिंडा : अवैध कॉलोनियां बनी गन्दगी के अड्डे

0
illegal-colonies

नारकीय जीवन जीने का मजबूर हैं कॉलोनियों में रहने वाले मजदूर | Illegal Colonies

बठिंडा/रामां मंडी(सच कहूँ/सतीश जैन)। स्थानीय तेल शोधक कारखाने के नजदीक बनी अवैध कॉलोनियां जहां स्वच्छ भारत मुहिम की धज्जियां उड़ा रही हैं, वहीं कॉलोनी मालिक लाखों रूपये टैकस की चोरी कर कर सरकारी खजाने को सेंध लगा रहे हैं। रिफायनरी लगने के बाद गांव रामसरा में लेबर के लिए धड़ाधड़ कालोनियों बनाईं जा रही हैं। कुछ कालोनियों तो रिफायनरी के बिल्कुल साथ ही बनाई गई हैं। इन कॉलोनियों में रहने वाले मजदूरों को सुविधाएं नामात्र दी गई हैं जहां कॉलोनियों के आसपास गन्दगी के ढेर लगे हुए हैं, जिस कारण मजदूर बीमार हो रहे हैं।

मजदूरों को पीने का साफ पानी भी नसीब नहीं हो रहा। कॉलोनियों में बने शौचालय गन्दगी के साथ भरे हुए हैं, कॉलोनियों में मजदूरों की सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं किए गए, वहीं कुछ कॉलोनियों में रखे फायर सेफ्टी सिस्टम भी काम नहीं कर रहे। कुछ महीने पहले एक कॉलोनी में गैस सिलंडर फटने से कई कमरे जलकर राख हो गए थे। कॉलोनियों में मजदूरों के लिए जो कमरे बनाऐ गए थे उसमें ज्वलनशील फाइबर का इस्तेमाल किया गया था

मजदूरों की हालत जानवरों से भी हुई बदत्तर | Illegal Colonies

वहीं ही कुछ कॉलोनियों में मजदूरों के लिए बनाऐ कमरों की छतें टीन की होने के कारण मौसम के लिए उचित नहीं हैं, जिस कारण कॉलोनियों में रहने वाले मजदूरों की हालत जानवरों से भी बदत्तर हुई पड़ी है। रिफायनरी में काम करने वाले मजदूरों ने रिफायनरी प्रबंधकों से मांग करते हुए कहा कि वह मजदूरों के लिए विशेष कॉलोनियां बनाकर उनको नरक भरी जिंदगी से छुटकारा दिलाएं।  इस संबंधी जब पुड्डा के अधिकारी के साथ बात की गई तो उन्होंने कहा कि उनको इस सम्बन्धित कोई जानकारी नहीं है।

कॉलोनियों किराये पर ली हैं : अधिकारी | Illegal Colonies

इस संबंधी रिफायनरी में काम कर रही प्राईवेट कंपनियों के अधिकारियों ने कहा कि उन्होंने तो कॉलोनियों को किराये पर लिया है, जिसका वह किराया दे रहे हैं।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।