बठिंडा : गोनियाना मंडी की सड़कों का बुरा हाल, दो दिन पहले बनी हुई टूटनी शुरू

0
road damage

स्थानीय निवासियों ने ठेकेदार पर लगाया सड़क निर्माण में घटिया मटीरियल इस्तेमाल करने का आरोप | Road Damage

बठिंडा/गोनियाना(सच कहूँ/जगतार जग्गा)। गोनियाना मंडी की नई बनी सड़कों  की बीते दिन आई बारिश ने पोल खोल कर रख दी है। सड़कों पर लगे घटिया मटीरियल के कारण सड़कें पानी के साथ टूटनी (Road Damage) शुरू हो गई हैं। इन सड़कों का अभी दो दिन पहले ही निर्माण किया गया था।  विवरणों अनुसार गोनियाना मंडी की टूटीं सड़कों का मुद्दा मीडिया ने पूरी तरह उठाया हुआ था जब सड़कें बननी शुरू हुई तो अगले दिन ही बारिश शुरू हो गई, जिसके साथ ठेकेदार की पोल खुलने लगी और पूरे का पूरा मटीरियल पानी में बह चला।

सड़क विभाग अनुसार जब सड़कें बनतीं हैं और जब भी ब्लैक कंक्रीट सड़क बनाई जाती है तो यह पूरी गर्मी के सीजन में ही बन सकती है परंतु गोनियाना मंडी की सड़कें गर्मी के सीजन की बजाय वोटों के सीजन दौरान बनाई जातीं हैं और आदेशों की कोई परवाह नहीं की जाती जब वोटों का सीजन आता है फिर धूप -छाया, ठंड या गर्मी नहीं देखी जाती और न ही किसी बारिश का ध्यान रखा जाता है फिर तो रातों-रात ही सड़कें बननीं शुरू हो जाती हैं। इस बार भी इसी तरह ही हुआ क्योंकि लगभग एक महीने के करीब नगर कौंसिल की वोटों में शेष समय रह गया है और नगर कौंसिल ने जल्दी -जल्दी यह काम शुरू करवा दिया कि बारिश तक को भी नहीं देखा गया और सड़कें बनते ही बारिश में बह गई।

दोषी पाए जाने वाले सभी अधिकारियों और ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई की मांग

जब इस पत्रकार ने गोनियाना मंडी की सड़कों पर जाकर देखा कि जो सड़क बनाई गई थी पानी की वजह से वह टूट कर बजरी की ढेरियों का रूप धारण कर चुकी थी लोगों ने मांग की कि इस सड़क पर अच्छी क्वालिटी का मटीरियल लगा कर सड़क को बनाया जाए। गोनियाना के डॉ. त्रिलोक जिन्दल,दुकानदार अमृत लाल सिंगला, कृष्ण बांसल, हरशदीप, मुकेश जिन्दल और जिता सिंह ने कहा कि लोगों की ओर से दिए गए टैक्स को नगर कौंसिल और ठेकेदार की ओर से मिलीभुगत के साथ इसी तरह पानी में बहाया जा रहा है क्योंकि बुरा मटीरियल लगाने से ही सड़कें अगले दिन ही टूट गई। उन्होंने मांग की कि सड़क की जांच एजेंसी से करवा कर इस में दोषी पाए जाने वाले सभी अधिकारियों और ठेकेदार के खिलाफ बनती कार्रवाई करके सड़क का नव निर्माण करवाया जाना चाहिए।

मामले की उच्च स्तरीय जांच हो: मट्टू | Road Damage

संघर्ष समिति के अध्यक्ष रमेश कुमार मट्टू ने कहा कि यह सड़क बिल्कुल भी सही नहीं बन रही और उन्होंने खुद जा कर सड़क बनने समय निरीक्षण किया था जो कि बारिश पड़ने के बावजूद सड़क बनाई जा रही थी। यह नियमों की सरासर उल्लंघना है। उनकी मांग है कि इसकी उच्च स्तरीय जांच करवा कर लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के खिलाफ बनती कार्रवाई की जाए।

कोताही नहीं होगी बर्दाश्त : नगर कौंसिल अध्यक्ष | Road Damage

नगर कौंसिल के अध्यक्ष प्रेम कुमार प्रेमा कहा कि उन्होंने सड़क का काम खुद पास खड़े होकर करवाया है परंतु यदि फिर भी किसी को इससे कोई शिकायत है तो इस की जांच करवाकर दोषी पाए जाने वाले व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी और किसी को भी लापरवाही नहीं बतरने दी जायेगी।

सड़क बनाने में इस्तेमाल नहीं किया गया घटिया मटीरियल : जेई

  • नगर कौंसिल के जेई इंजी: गुरबखशीश सिंह ने घटिया मटीरियल के लगे दोषों को नकारते कहा कि यह सभी दोष बेबुनियाद हैं।
  • उन्होंने खुद के पास खड़े होकर सड़क बनवाई है।
  • जितना तापमान सड़क बनने समय चाहिए वह तापमान भी पूरा था।
  • इस सड़क को बनाने के लिए किसी भी किस्म के घटिया मटीरियल का प्रयोग नहीं किया गया।
  • न ही इसे बनाने वाले स्टाफ की तरफ से कोई कोताही बरती गई है।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।