आटो उपकरण कारोबार दस प्रतिशत घटा

0
collapse

एक लाख लोगों की नौकरी पर असर (collapse)

  • आटो उपकरण उद्योग के कारोबार में आई बड़ी गिरावट

  • वर्तमान में 60 प्रतिशत आटो उपकरण पर 18 प्रतिशत जीएसटी लगता है

नई दिल्ली (सच कहूँ न्यूज)। देश के आटोमोबाइल उद्योग में पिछले एक साल से छाई(collapse) सुस्ती के कारण आटो उपकरण उद्योग के कारोबार में 2019-20 की पहली छमाही में 10.1 प्रतिशत की गिरावट आई और यह पिछले साल की इसी अवधि के 199849 करोड़ रुपए से घटकर 179662 करोड़ रुपए रह गया। भारतीय आॅटोमोटिव कम्पोनेंट निमार्ता संघ (एक्मा) के अध्यक्ष दीपक जैन और महानिदेशक विन्नी मेहता ने गुरुवार को चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में उद्योग के प्रदर्शन की जानकारी देते हुए कहा कि मंदी की वजह से इस वर्ष जुलाई तक एक लाख लोगों के रोजगार गए।

 यह पहला मौका है जब आटो उपकरण उद्योग के कारोबार में इतनी बड़ी गिरावट दर्ज की गई है

जैन ने उद्योग के कारोबार में गिरावट के कारण गिनाते हुए कहा वाहनों की मांग में कमी बीएस-4 से बीएस-6 वाहनों के निर्माण के लिए हालिया निवेश, तरलता की तंगी और इलेक्ट्रिक वाहनों की नीति को लेकर संशय के अलावा अन्य कारणों की वजह से वाहन उपकरण क्षेत्र की विस्तार योजनाओं पर असर पड़ा। देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में दो प्रतिशत से अधिक का योगदान और पचास लाख लोगों को रोजगार देने वाले उद्योग की दीर्घकालिक आधार पर निरंतर गति बनाए रखने के लिए जैन ने आॅटो उपकरण पर एक समान 18 प्रतिशत का वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) किए जाने की सरकार से मांग की है।

दुपहिया और ट्रैक्टर उपकरणों पर अधिक जीएसटी होने से ग्रे बाजार को बढ़ावा मिलता है

उन्होंने कहा कि वर्तमान में 60 प्रतिशत आॅटो उपकरण पर 18 प्रतिशत जीएसटी लगता है जबकि शेष 40 प्रतिशत जिसमें मुख्यत: दुपहिया और ट्रैक्टर उपकरण है 28 प्रतिशत जीएसटी है। उन्होंने कहा कि दुपहिया और ट्रैक्टर उपकरणों पर अधिक जीएसटी होने से ग्रे बाजार को बढ़ावा मिलता है। सभी उपकरणों पर 18 प्रतिशत जीएसटी कर दिए जाने से वाहन बिक्री के बाद ग्राहकों को गुणवत्ता वाले उपकरण तो मिलेंगे ही सरकार की आय भी बढ़ेगी। इसके अलावा निवेश के लिहाज से मध्यम एवं लघु उद्योगों की परिभाषा में भी बदलाव की जरूरत है।

देश के आटो मोबाइल क्षेत्र में अपार संभावनाएं

मेहता ने बताया कि चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में आॅटो उपकरणों का निर्यात 2.7 प्रतिशत बढ़कर पहले के 50034 करोड़ रुपए से 51397 करोड़ रुपए पर पहुंच गया। यूरोप को सर्वाधिक 32 प्रतिशत निर्यात किया गया जबकि इसके बाद नार्थ अमेरिका और एशिया क्रमश 30 और 26 प्रतिशत रहे।इस दौरान आयात 6.7 प्रतिशत घटकर 61686 करोड़ रुपए से 57574 करोड़ रुपए रह गया। आयात मुख्यत: 62 प्रतिशत एशिया से रहा।

  • यूरोप और नॉर्थ अमेरिका से आयात क्रमश: 28 और आठ प्रतिशत रहा।
  • वाहन बिक्री के बाद उपकरणों की बिक्री के कारोबार में चार प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई
  • और यह 33746 करोड़ रुपए से 35096 करोड़ रुपए पर पहुंच गया।
  • जैन ने कहा कि देश के आॅटो मोबाइल क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं
  • यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के देश की अर्थव्यवस्था को 50 खराब डालर बनाने में अहम योगदान कर सकता है।

 

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करे।