प्रदेश सरकार पर गरजी आशा वर्कर्स यूनियन

0
Asha Workers Union Protest - Sach Kahoon News

समय रहते चेते सरकार, नहीं तो रौद्र रूप ले सकती है नारी शक्ति

भिवानी (सच कहूँ न्यूज)। आशा वर्कर्स यूनियन अपनी मांगों को पूरा करवाने तथा समस्याओं के समाधान के लिए भिवानी के सिविल अस्पताल परिसर में पिछले सात अगस्त से धरनारत हैं। इसी के तहत आशा वर्कर्स ने मंगलवार को अपनी मांगों के समर्थन में नारेबाजी करते हुए सरकार को चेताया और कहा कि समय रहते सरकार उनकी मांगें माने अन्यथा आगे आंदोलन के दौरान जो नुकसान होगा, उसका खामियाजा प्रदेश सरकार को ही भुगतना पड़ेगा। धरने पर बैठी आशा वर्कर्स का कहना है कि स्वास्थ्य क्षेत्र में सबसे अधिक सक्रिय स्वास्थ्य कार्यकर्ता आशा सहयोगी ही हैं, जो कोरोना महामारी के दौर में अपनी जान को जोखिम में डाल कर जनता को बचाने का काम कर रही हैं। फिर भी सरकार उनकी जायज मांगे नहीं मान रही है।

इसी को लेकर मंगलवार को उन्होंने सरकार के खिलाफ नारेबाजी की है और धरना दिया है। आशा वर्कर यूनियन की जिला सचिव सुशीला ने बताया कि पूरे प्रदेश में आशा वर्कर्स सात अगस्त से लगातार सरकार के साथ हुए समझौते को लागू करवाने तथा प्रदेश की जनता को बेहतर सुविधाएं प्रदान करने के लिए आंदोलन कर रही है, परंतु सरकार ने उनकी मांगों का आज कोई समाधान नहीं निकाला है।

यूनियन ने सरकार को 15 दिन का समय दिया था, वह भी समाप्त होने वाला है, लेकिन अभी तक मुख्यमंत्री से उनकी बातचीत नहीं हो पाई है। जिला सचिव सुशीला ने कहा कि कोरोना काल में भी हमने सरकार को सेवाएं दी हैं और दूसरी तरफ अब डेंगू भी फैल रहा है। अगर आशाएं इसी तरह धरने पर बैठी रही तो सरकार डेंगू की मार भी झेलने को तैयार रहे। साथ ही साथ उन्होंने कहा कि समय रहते सरकार नहीं चेती तो धरनारत्त आशा वर्कर्स नारी शक्ति दुर्गा का रूप धारण कर सकती हैं और आने वाले समय में बड़े आंदोलन कर सकती है, जिसका खामियाजा प्रदेश सरकार को ही भुगतना पड़ेगा।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।