विभाग की महिला कर्मचारी के साथ हुई बहस

0
Sloganeering

रास्ता बंद करने से हुए आक्रोशित, वन विभाग के खिलाफ की नारेबाजी (Sloganeering)

हनुमानगढ़ (सच कहूँ न्यूज)। जंक्शन के खुंजा के पास से निकलने वाली एसटीजी नहर पर चक 1 एसटीजी में बने पुल का रास्ता वन विभाग की ओर से तारबंदी कर ताला लगाकर बंद करने से गांव मक्कासर के किसान बुधवार को आक्रोशित हो गए। उन्होंने वन विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए रास्ते को खोलने की मांग की। इस दौरान मौके पर मौजूद वन विभाग की महिला कर्मचारी के साथ किसानों की जमकर बहस भी हुई। किसानों का कहना था कि उन्हें रात्रि को भी खेतों में जाना पड़ता है। लेकिन रात्रि को ताला लगाकर रास्ता बंद करने से वे न तो अपने खेतों में जा सकते हैं और न ही आ सकते हैं।

किसान ताला खोलने के बाद हुए शांत

प्राप्त जानकारी के अनुसार वन विभाग की ओर से एसटीजी नहर के किनारे पर पौधरोपण किया जा रहा है। लेकिन इन पौधों को निराश्रित गोवंश की ओर से नुकसान पहुंचाने के चलते वन विभाग की ओर से खुंजा में शमशान भूमि के सामने एसटीजी नहर के पुल के पास तारबंदी कर दी गई है। इस अस्थाई गेट को रोजाना शाम 7 बजे ताला लगाकर बंद कर दिया जाता है ताकि निराश्रित गोवंश पौधों को नुकसान न पहुंचाएं। लेकिन इससे पुल व नहर की पटरी से अपने-अपने खेतों को जाने वाले किसानों का रास्ता बंद हो गया है। इससे आक्रोशित किसानों ने बुधवार सुबह ग्राम पंचायत मक्कासर सरपंच बलदेव सिंह व पूर्व सरपंच गणपतराम बारूपाल के नेतृत्व में मौके पर एकत्रित होकर विरोध जताते हुए पूर्व की भांति रास्ता खोलने की मांग को लेकर वन विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

इस मौके पर मौजूद सरपंच बलदेव सिंह ने बताया कि चक 1 एसटीजी में नहर पर पुल बना हुआ है। यह आम रास्ता है। रोजाना किसानों का यहां से आना-जाना रहता है। यह रास्ता वन विभाग ने बंद कर दिया है। उन्होंने वन विभाग पर गुंडागर्दी करने का आरोप लगाते हुए चेतावनी दी कि अगर रास्ता नहीं खोला गया तो वन विभाग के डीएफओ या उच्चाधिकारियों का घेराव किया जाएगा। धरना दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रशासन से बात करके रास्ता खुलवाया जाएगा।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।