अलवर : रात का कर्फ्यू लगते ही अस्पतालों में पसरा सन्नाटा

0
Alwar Silence in hospitals as night curfew begins

पहले की तुलना में काफी कम हो गए मरीज (Night Curfew)

अलवर। सरकार की ओर से अलवर जिले में (Night Curfew) रात को कर्फ्यू लगाए जाने की घोषणा के अगले दिन ही जिला अस्पताल में मरीजों की संख्या कम हो गई है। अस्पताल के आउटडोर में सन्नाटा सा दिखा। जबकि अन्य दिनों में अच्छी खासी भीड़ नजर आती थी। आउटडोर के बाद चिकित्सकों के चेंबर में पहुंचे तो वहां भी चिकित्सक बिना मरीज के नजर आए। चिकित्सक अशोक महावर न बताया कि रविवार के दिन अस्पताल का समय कम होता है। इस कारण भी कुछ मरीज कम आते हैं।

लेकिन यह सही है कि इस बार रविवार को मरीजों की संख्या काफी कम है। मेडिकल दुकानदारों का कहना है कि अब भी मरीज सीधे मेडिकल से दवाएं लेने पहुंचते हैं। जबकि यह आदेश है कि बिना चिकित्सक किसी को मेडिकल दुकान से दवाएं नहीं दी जाएं। लेकिन मेडिकल दुकानों पर इसका कोई असर नहीं है। अभी बीमार लोग सीधे मेडिकल आते हैं और दवाइयां लेकर चले जाते हैं। यह भी कोरोना संक्रमण फैलने का एक कारण सामने आ चुका है।

कैदियों का इलाज भी आसानी से

जिला अस्पताल में भीड़ कम होने से यह भी देखने को मिला कि वहां आए कैदियों को आसानी से चिकित्सकों की सेवाएं मिलीं। इधर, आंखों के चिकित्सकों के पास मरीजों की जरूर भीड़ दिखी। दवा काउंटर पर भी सन्नाटा दिखा।

रोजाना 2 हजार के आसपास आउटडोर

जिला अस्पताल में रोजाना करीब 2 हजार मरीजों का आउटडोर रहता है। शनिवार को ही सरकार ने अलवर सहित कई जिलों में रात्रि 8 बजे से अगले दिन सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू लगाने की घोषणा कर दी। इसका असर सुबह जिला अस्पताल में देखने को मिला। सुबह के समय अस्पताल में अच्छी खासी भीड़ नजर आती थी वहां इक्के-दुक्के मरीज ही दिखाई दिए।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।