राष्ट्रव्यापी हड़ताल में सभी ट्रेड यूनियनें लेंगी भाग

0
All trade unions will participate in the nationwide strike

कैंवेंशन कर सरकार का जताया विरोध (Nationwide Strike)

भिवानी (इन्द्रवेश)। विभिन्न ट्रेड यूनियनों की सांझा कैंवेशन में हुड्डा पार्क में घोषणा की 26 नवंबर को राष्ट्रीय ट्रेड यूनियनों के आह्वान पर जिले में सभी कर्मचारी व मजदूर संयुक्त रूप से (Nationwide Strike) हड़ताल करेंगे तथा 27 नवम्बर को किसानों के साथ दिल्ली घेराव में भाग लेंगे। एटक के जिला प्रधान ईशवर शर्मा, सीटू के रत्न जिंदल, इंटक के रामौतार खोरड़ा, एआईयूटीयूसी के राज कुमार बासिया, सर्व कर्मचारी संघ के सूरजभान जटासरा, हरियाणा कर्मचारी महासंघ से ओमबीर तथा बैंक इम्लाईज फैडरेशन के सत्यशील कौशिक की अध्यक्षता में संयुक्त कैंवेंशन हुडड़ा पार्क में हुई।

कैंवेंशन को संबोधित करते हुए विभिन्न यूनियन नेताओं ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार ने मजदूरों व कर्मचारियों एवं किसानों के विरोध में कानून लाकर देश की जनता पर हमला बोल दिया है। कैंवेंशन को संबोधित करते हुए बलदेव सिंह घनघस ने कहा कि सभी विभागों का निजीकरण शिक्षा, स्वास्थ्य को बेच दिया है। सबसे पहले मैडिकल छात्रों की फीस 40 लाख रूपए करके गरीबों के बच्चों को डा. बनने से रोक दिया है। वहीं कृषि पर तीन काले कानून लादकर किसान, मजदूर की कमर तोड़ने का काम किया है। इसमें खेतीबाड़ी की बड़ी बड़ी कम् पनियों को प्रवेश दिलाकर आमजनता को लूटने का कार्यक्रम तय कर दिया है।

पूरे देश में सरकार के विरूद्ध आंदोलन का बिगूल

ट्रेड यूनियनों के 44 कानूनों को खत्म करके 4 कोड़ में बदलकर न्यूनतम वेतन, काम के घंटे छटने, यूनियन बनाने, हड़ताल करने के अधिकारों पर हमला कर दिया है। सरकार ने हायर, फायर की नीति लागू कर दी है। इसलिए सरकार ने मजदूर, किसानों को लूटने का लाईसेंस पूंजीपतियों को दे दिया है। एटक के जिला प्रधान ईशवर शर्मा ने केंद्र तथा प्रदेश की तमाम संशाधन जनता से छीनकर कम्पनियों के हवाले कर दिये हैं। परिणाम स्वरूप भयंकर बरोजगारी, महंगाई व भ्रष्टाचार बढ़ रहा है। इन्हीं नीतियों के खिलाफ यह सांझा मजदूर, कर्मचारी, किसान आंदोलन लड़ाई के मैदान में आगे आ रहा है। 26-27 नवम्बर को पूरे देश में सरकार के विरूद्ध आंदोलन का बिगूल बजा दिया है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।