अनुच्छेद 370: कश्मीर में छह महीने बाद सभी स्कूल खुले

0
Educational institution open

कश्मीर में पांच अगस्त से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद प्रतिबंध और बंद के कारण सामान्य जीवन बुरी तरह से प्रभावित रहा

(Educational Institution open)

श्रीनगर (एजेंसी)। जम्मू-कश्मीर की ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर और कश्मीर घाटी के अन्य हिस्सों में छह महीने के बाद सोमवार को सरकारी और प्राइवेट स्कूल सहित सभी शैक्षणिक संस्थान खुले। प्रदेश में पांच अगस्त से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद प्रतिबंध और बंद के कारण सामान्य जीवन बुरी तरह से प्रभावित रहा और सभी शैक्षणिक संस्थान बंद रहे। इसके बाद सरकार ने स्कूलों में तीन महीने के लंबे शीतकालीन अवकाश की घोषणा की थी। (Educational Institution open) कश्मीर और घाटी के अन्य हिस्सों के स्कूलों में छात्रों का शोर सुनाई गई जो स्कूलों में छात्र रंगीन वर्दी और उनके अभिभावक उनके साथ देखे गए।

छह महीने बाद मैं अपने दोस्तों से मिलने के वास्तव में बहुत उत्सुक हूं: छात्र याहया

सोमवार सुबह स्कूल बसों की इंतजार में बस स्टैंड पर बच्चे और उनके अभिभावक बसों का इंतजार करते हुए दिखाई दिए। छह महीने तक घर पर रहने के बाद छात्र स्कूल आने के लिए उत्सुक हो रहे हैं। बारहवीं कक्षा के एक छात्र याहया भट ने कहा,‘छह महीने बाद मैं अपने दोस्तों से मिलने के वास्तव में बहुत उत्सुक हूं।

  • आशा करता हूँ इस वर्ष शांति बनी रहेगी और हम अपने कक्षाओं में उपस्थित रह सकेंगे।
  • अपने सहपाठियों से मिलने के लिए बहुत उत्सुक हैं जिनमें से कुछ घाटी के अन्य जिलों में रहते हैं।
  • मैं केवल यह आशा कर सकता हूं कि हम पिछले साल की छूटी अपनी शिक्षा की भरपाई शीघ्र कर पाएंगे।
  • श्रीनगर के नगर निगम के स्कूलों का समय सुबह 10 बजे से अपराह्न तीन बजे तक होगी।
  • कश्मीर के शेष हिस्सों में समय साढ़े 10 बजे से अपराह्न साढ़े तीन बजे तक रहेगा।

शीतकालीन छुट्टियों के बाद प्रशासन ने कॉलेजोंं की परीक्षाओं की भी घोषणा की थी

कश्मीर के शिक्षा निदेशक मोहम्मद यूनीस मलिक ने कहा कि पिछले वर्ष छात्रों ने अपने साहस को परिचय दिया और अब हमारी जिम्मेदारी बनती है कि हम उनका साथ दें और उनके पाठ्यक्रम को समय पर पूरा करने के लिए लगातार प्रयास करना होगा। उन्होंने फील्ड अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे निर्धारित लक्ष्यों की समयबद्ध उपलब्धि के लिए शैक्षणिक योजनाओं का पालन करने के नजर रखते हुए नियमित स्कूलों का दौरा करें। केन्द सरकार के पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर को दो हिस्सों में विभाजित करने और अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करने के बाद प्रदेश के सभी शैक्षणिक संस्थानों को सरकार ने बंद रखने का आदेश दिया।

  • दो सप्ताह के शैक्षणिक संस्थानों को हालांकि चरणबद्ध तरीके से शीतकालीन राजधानी जम्मू और लद्दाख में फिर से खोल दिया गया ।
  • घाटी में स्कूलों को बंद कर दिया गया था।
  • नीजे स्कूलों ने विभिन्न स्थानों पर किराए पर कमरे लेकर छात्रों के लिए परीक्षा का संचालन किया।
  • अन्य छात्रों को उनकी गृह कार्य के आधार पद प्रोन्नत किया गया।
  • शेष स्कूलों में अक्टूबर के अंतिम सप्ताह में दसवीं और बारहवीं के छात्रों की परीक्षा आयोजित की गयी।
  • शीतकालीन छुट्टियों के बाद प्रशासन ने कॉलेजोंं की परीक्षाओं की भी घोषणा की थी।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।