मटर की बंपर पैदावार से कृषि विशेषज्ञ चिंतित

0
pea

हमीरपुर। उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले में 70 फीसदी किसानो ने सिर्फ मटर की फसल बो कर सभी को चौका दिया है हालांकि कृषि विभाग किसानो के फैसले से चिंतित दिखायी पड़ रहा है कि फसल चक्र पलट जाने से अगले साल होने वाले उत्पादन पर विशेष प्रभाव पडेगा। कृषि विज्ञान केंद्र (केवीके) कुरारा के कृषि बैज्ञानिक डा. एसपी सोनकर ने शुक्रवार को बताया कि जिले में रबी की फसल की बुआई का क्षेत्रफल तीन लाख हेक्टेयर है जिसमें 70 फीसदी किसानों ने केवल मटर की खेती को प्राथमिकता दी है जिससे जिले का फसल चक्र पूरी तरह गड़बड़ा गया है जबकि उत्पादन के लिये हर एक फसल का बोना अनिवार्य होता है मगर इस साल किसानों ने तकनीक ज्ञान और विभाग की कोई राय लिये बिना अपने तरीके से फसल बोयी है। किसानों का कहना है कि जो भी फसल अब तक बोते आ रहे है,उसमें उनको नुकसान होता आ रहा है।

किसानों ने दलहन मे अरहर, चना, मसूर,तिल के अलावा गेहू, अलसी व सभी फसल को बोने के लिये पूरी तरह नकार दिया है। जिले के इतिहास में यह पहला मौका है जब किसानों इतना बडा फैसला किया है। कृषि विज्ञान केंद्र कुरारा में दलहन की सीड हब होने के बावजूद भी किसानो ने दहलनी व तिलहनी फसल में सिर्फ मटर की फसल की प्राथमिकता देकर अन्य फसलो को नकार दिया है। बुंदेलखंड मे दालो के भाव ऊंचे होने की उम्मीद जतायी जा रही है। यहां तक कि बुन्देलखंड में मसूर की फसल अपनी पहचान बना चुकी है मगर धीरे धीरे यह फसल विलुप्त की ओर पहुंच रही है। कृषि वैज्ञानिक ने बताया कि बुन्देलखंड पूरे प्रदेश में दाल का कटोरा माना जाता है। सरकार को इस बात का विश्वास है कि उत्तर प्रदेश को केवल बुन्देलखंड ही दाल की आपूर्ति कर सकता है मगर यहां के किसानो ने इस साल शासन व कृषि विभाग के मंसूबो पर पानी फेर दिया है।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।