कार्रवाई: प्रदेश सरकार की तब्लीगी जमातियों के खिलाफ कार्रवाई शुरू

0
Nizamuddin Markaz

107 विदेशी जमातियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज, पासपोर्ट जब्त

चंडीगढ़ (अनिल कक्कड़/सच कहूँ)। Haryana Samachar in Hindi: पूरे देश में कोरोना वायरस को लेकर लाकडाउन है, सरकार विभिन्न तरह की पाबंदियां लगाए हुए है लेकिन दिल्ली के निजामुद्दीन के तब्लीगी मरकज में इकट्ठा हुए लोगों ने पूरे देश में हड़कंप पैदा कर दिया है। हरियाणा में 1277 तब्लीगी जमातियों के होने से प्रदेश सरकार के हाथ-पांव फूल गए हैं, क्योंकि इनमें से ज्यादातर लोग कोरोना पॉजीटिव पाए जा रहे हैं। ऐसे में सरकार ने इनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करना शुरू कर दिया है। हरियाणा पुलिस ने राज्य में आए 107 विदेशी जमातियों के खिलाफ एफआइआर दर्ज किया है। इसके पासपोर्ट भी जब्त कर लिए गए हैं। ये लोग निजामुद्दीन से हरियाणा में आए 1277 तब्लीगी जमातियों में शामिल हैं।

सभी विदेशी तब्लीगी हरियाणा सरकार के रडार पर है। इंडोनेशिया, साउथ अफ्रीका, बांग्लादेश, नेपाल, मलेशिया और श्रीलंका के इन विदेशी नागरिकों को सरकार ने भले ही क्वारंटाइन में रखा हुआ है, लेकिन क्वारंटाइन की अवधि के दौरान ही खुफिया विभाग इन विदेशियों की हर गतिविधि पर नजर रखते हुए अपने ढंग से छानबीन में लगा हुआ है। इन सभी 107 विदेशी तब्लीगी जमातियों के खिलाफ पांच जिलों पलवल, नूंह, गुरुग्राम, पानीपत और अंबाला में वीजा नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में एफआइआर दर्ज करा दी गई है।

सभी मस्जिदों को बंद करने के आदेश

हरियाणा पुलिस ने सरकार के निर्देश पर सभी मस्जिदों को बंद करने के आदेश दे दिए हैं। अब इन मस्जिदों में नमाज नहीं पढ़ी जाएगी। यदि ऐसा हुआ तो संबंधित धर्मगुरुओं के विरुद्ध कार्रवाई अमल में लाई जा सकती है। गृह मंत्री अनिल विज के अनुसार यह विदेशी टूरिस्ट वीजा पर भारत आए थे, लेकिन यहां आकर उन्होंने धर्म का प्रचार-प्रसार शुरू कर दिया था, जो वीजा नियमों का उल्लंघन है। हरियाणा के गृह सचिव विजयवर्धन और डीजीपी मनोज यादव ने दावा किया कि सरकार के प्रतिनिधि सभी धर्मगुरुओं के संपर्क में हैं और उन्हें जमातियों को क्वारंटाइन तथा इलाज में सहयोग देने के लिए प्रेरित करने को कह रहे हैं। मस्जिदें बंद हो गई और नमाज भी नहीं पढ़ी जा रही है।

इसमें धर्मगुरुओं का सहयोग मिल रहा है। डीजीपी मनोज यादव के अनुसार सभी क्वारंटाइन किए गए जमातियों पर निगाह रखी जा रही है। गृह सचिव विजयवर्धन ने बताया कि एफआइआर दर्ज होने के बाद जांच प्रक्रिया पूरी होने पर यदि सब कुछ सामान्य पाया जाता है, तभी इन विदेशियों के पासपोर्ट को रिलीज किया जा सकेगा।

लॉकडाउन की घोषणा के बाद भी मस्जिदों में नहीं रुके धार्मिक आयोजन

हरियाणा पुलिस को इन विदेशी जमातियों से कुछ खास जानकारी मिलने की उम्मीद है। राज्य में निजामुद्दीन मरकज से जितने भी 1277 तब्लीगी जमात के लोग पहुंचे, वे सभी यहां की मस्जिदों में ठहरे हुए थे। हालांकि, सभी जमाती 25 मार्च लॉकडाउन से पहले ही हरियाणा में पहुंच गए थे और इस अवधि के बाद कोई भी जमाती राज्य में नहीं पहुंच पाया, लेकिन लॉकडाउन की घोषणा के बाद न तो मस्जिदें बंद हो पाई थी और न ही उनमें नमाज पढ़नी रुकी थी।

वहीं उपचाराधीन जमातियों द्वारा नर्सिंग स्टॉफ एवं डॉक्टरों से बदतमीजी की घटनाओं पर हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि यदि ऐसा कोई भी व्यक्ति करता पाया गया तो उसके विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। अनिल विज ने कहा कि इन लोगों का इलाज करना हमारी मजबूरी है।  इसलिए पैरा मेडिकल स्टाफ के लोग तथा नर्सें तनाव न लें। गलत हरकतें करने वाले जमातियों को किसी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।