न्यूजीलैंड में कोरोना के डेल्टा वेरिएंट के 60 नये मामले

0
121
coronavirus sachkahoon

वेलिंग्टन। न्यूज़ीलैंड में कोविड-19 के डेल्टा वेरिएंट के 60 नये मामले सामने आये हैं जिससे संक्रमितों की संख्या 2,158 हो गई है। स्वास्थ्य महानिदेशक एशले ब्लूमफील्ड ने एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा कि कोरोना के नये मामलों में से 56 मामले ऑकलैंड शहर में दर्ज सामने आये और चार मामले नजदीक के वाइकाटो शहर में दर्ज किये गये। उन्होंने कहा कि 43 संक्रमितों का इलाज अस्पताल में किया जा रहा है, जिनमें से पांच इन्टेन्सिव केयर यूनिट्स (आईसीयू) या हाई डिपेंडेंसी यूनिट्स (एयडीयू) में हैं।

क्या हैं डेल्टा प्लस

डेल्टा वैरिएंट ही वह वजह है जिसके चलते भारत में कोरोना की दूसरी खतरनाक लहर आई थी। कोविड-19 का ये वेरिएंट पहली बार भारत में ही मिला था। इसी से भारत में कोरोना के दौरान सबसे ज्यादा मौतें हुईं हैं। वैज्ञानिकों की मानें तो डेल्टा वेरिएंट का संक्रमण काफी तेजी से फैलता है। साथ ही ऐसे में मरीजों में कोरोना के गंभीर लक्षण दिखते हैं। इस वक्त ब्रिटेन और इजराइल में इसी वेरिएंट के चलते कोरोना के नए केस में तेजी से इजाफा हो रहा है। आंकड़ों के मुताबिक इजराइल में कोरोना के 90 फीसदी केस इसी वेरिएंट के हैं। ये स्थिति तब है जब वहां 50 फीसदी लोगों ने वैक्सीन लगवा ली है। कोरोना का ये एक अन्य वेरिएंट डेल्टा में ही म्यूटेशन के बाद देखने को मिला है।

डेल्टा प्लस वैरिएंट के प्रमुख सिम्पटंस

Coronavirus

  • खांसी, बुखार, जुकाम
  • त्वचा पर चकत्ते पड़ना
  • गले में खराश
  • टेस्ट और स्मेल ना आना
  • दस्त लगना
  • पैर की अंगुलियों का रंग बदलना
  • सीने में दर्द, सिरदर्द
  • सांस लेने में परेशानी

तो इसलिए खतरनाक है डेल्टा प्लस वैरिएंट?

हेल्थ मिनिस्ट्री और डब्ल्यूएचओ ने डेल्टा प्लस को वैरिएंट आॅफ कंसर्न भी घोषित किया है। किसी भी म्यूटेशन को वैरिएंट आॅफ कंसर्न तब कहा जाता है जब उसमें ये बातें सामने आएं।

  • वायरस की संक्रमण क्षमता ज्यादा हो और वो एक व्यक्ति से दूसरे में आसानी से फैल जाए।
  • अगर म्यूटेशन वायरस की एंटीबॉडी की क्षमता को कम कर दे।
  • यह म्यूटेशन उपचार और वैक्सीन के असर को कम करने में भी सक्षम हो।
  • जांच के बाद भी आसानी से पहचान में नहीं आएं।

ऐसे करें कोरोना के डेल्टा प्लस वैरिएंट से बचाव

Necessary Resources to Delhi

  • घर से बाहर निकलते समय डबल मास्क पहनें। अतिआवश्यक काम होने पर घर से बाहर जाएं।
  • हाथों को बार-बार अच्छी तरह साबुन से धोएं और किसी भी चीज को छूने से पहले जरूर सेनेटाइज करें।
  • सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और कम से कम छह फीट की दूरी बना कर रखें।
  • घर की चीजों और आसपास की जगहों को साफ-सुधरा रखें और डिसइंफेक्ट करते रहें।
  • बाहर से आने वाले सभी सामान को पहले डिसइंफेक्ट करें और फिर घर में लाएं।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।